Home / Haryana / मजदूरों के चेहरों पर दिखी बसों से घर वापस जाने की खुशी

मजदूरों के चेहरों पर दिखी बसों से घर वापस जाने की खुशी

झज्जर (सुमित कुमार)। लॉक डाउन के दौरान विभिन्न गांवों में रहकर दिहाड़ी-मजदूरी करने वाले उन प्रवासी मजदूरों के चेहरे शनिवार को खिल उठे,जोकि काम न मिलने से परेशान थे और पैसे व राशन खत्म होन के चलते काफी घुटन महसूस कर रहे थे। हांलाकि यह मजदूर मानते है कि मानवता के धर्म के चलते उन्हें प्रसासनिक स्तर पर मदद मिली और आमजन ने भी उनका सहयोग किया,लेकिन परिवार व बच्चों से दूर होने के चलते वह काफी दुखी थे और उनकी चाह थी तो केवल एक की किसी तरह से बस अपने गांव और घर चला जाए।

Advertisements

पिछले दिनों कराए गए रजिस्ट्रेशन व प्रशासन की सूचना पर शनिवार को इन प्रवासी मजदूरों को रोड़वेज की आधा दर्जन बसों में बैठाकर यूपी के लिए रवाना किया गया। इस दौरान इन श्रमिकों के चेहरे पर अजीब सी मुस्कान थी और परिजनों से मिलने की खुशी से इनके चेहरे सराबोर थे। प्रशासन ने इन सभी की पहले थर्मल सक्रीनिंग कराई और बाद में इन्हें बसों में बैठाकर यूपी के लिए रवाना कर दिया। इस दौरान श्रमिकों ने दोबारा से इस क्षेत्र में आने की बात भी कही।

प्रवासी मजदूरों को बसों में बैठाने आए बीडीओ रामफल ने बताया कि रजिस्टे्रशन कन्फर्म होने के बाद प्रवासी मजदूरों की रवानगी की गई है। उन्होंने यह भी बताया कि जिला प्रशासन ने इस श्रमिकों के अलावा बिहार जाने वाले करीब 600 मजदूरों का भी डाटा तैयार कर लिया है। उन्हें भी अगले कुछ रोज में उनके गांव भेज दिया जाएगा।

Advertisements
Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

chandermohan

पूर्व डिप्टी CM चंद्रमोहन ने कहा- यह पिपली नहीं, Panchkula है; किसान को हाथ भी लगा तो बाजू काट देंगे

पंचकूला (उमंग श्योराण)। केंद्र सरकार के कृषि अध्यादेश के खिलाफ विरोध बढ़ता ही जा रहा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!