पंजाब के प्राइमरी स्कूलों में चार साल में दो लाख नामांकन घटे | Hindxpress

पंजाब के प्राइमरी स्कूलों में चार साल में दो लाख नामांकन घटे

पंजाब के प्राइमरी स्कूलों में चार साल में दो लाख नामांकन घटे

चोरी और लूट की वारदात को अंजाम देने वाला बदमाश काका गिरफ्तार
Video : बीच सड़क धू-धू कर जला सीमेंट से भरा ट्रक

चंडीगढ,20जुलाई। पंजाब के सरकारी और निजी प्राइमरी स्कूलों में चार साल में दो लाख नामांकन कम हो गए। वर्ष 2014-15 से वर्ष 2017-18 के बीच यह गिरावट दर्ज की गई। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की वर्ष 2019-20 की रिपोर्ट में यह खुलासा किया गया है।

वर्ष 2016-17 से 2017-18 के बीच नामांकन में गिरावट प्राइमरी स्तर पर 2.96 फीसदी,अपर प्राइमरी स्तर पर 3.01 फीसदी और हायर सैकण्ड््ी स्तर पर 4.63 फीसदी दर्ज की गई। पंजाब सरकार से सहायता प्राप्त स्कूलों में वर्ष 2016-17 और 2017-18 के बीच प्राइमरी स्तर पर नामांकन में 17 फीसदी और अपर प्राइमरी स्तर पर 16 फीसदी कमी दर्ज की गई है। प्राइमरी स्कूलों की संख्या भी कम हुई है। वर्ष 2014-15 में 13522 प्राइमरी स्कूल थे जो कि वर्ष 2017-18 में 13117 रह गए। वर्ष 2017-18 में 852 अपर प्राइमरी स्कूल बंद हो गए। करीब 1420 प्राइमरी स्कूल और 457 अपर प्राइमरी स्कूल में शिक्षक-छात्र अनुपात मानकों के अनुसार नहीं है।

दस फीसदी प्राइमरी स्कूल और बीस फीसदी अपर प्राइमरी स्कूलों में छात्र और कक्षा कक्षों का अनुपात सही नहीं है। प्राथमिक स्कूलों और छात्रों की संख्या घटने से 8364 शिक्षक अधिशेष हो गए है। प्रारम्भिक शिक्षा में शिक्षकों के 1666 पद खाली भी है। करीब 18 फीसदी प्राइमरी स्कूलों में तीन विषयों के शिक्षक नहीं है। स्कूल छोडने वालों में सबसे अधिक छात्र अनुसूचित जाति समुदाय से है। लुधियाना,भटिंडा,फिरोजपुर और जालंधर जिलों में स्कूल छोडने वालों की संख्या अधिक है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0