Home / Punjab / भडक़ाऊ व गुमराह करने वाली बयानबाजी की बजाए रिपेरियन कानून पर अड़े पंजाब सरकार -अमन अरोड़ा

भडक़ाऊ व गुमराह करने वाली बयानबाजी की बजाए रिपेरियन कानून पर अड़े पंजाब सरकार -अमन अरोड़ा

चण्डीगढ़, 19 अगस्त 2020 : आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने सतलुज-यमुना लिंक (एसवाईएल) नहर के मुद्दे पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह पर पंजाब समर्थकी स्टैंड की बजाए भडक़ाऊ और गुमराह करने वाली बियानबाजी करने का दोष लगाया है।

Advertisements

पार्टी हैडक्वाटर से जारी बयान के द्वारा अमन अरोड़ा ने कहा कि मंगलवार को एसवाईएल पर केंद्रीय मंत्री के साथ पंजाब और हरियाणा के मुख्य मंत्रियों की बैठक के उपरांत राजा अमरिन्दर सिंह की तरफ से एसवाईएल बनने की सूरत में पंजाब में आग लगने वाले भडक़ाऊ बियानबाजी करने की बजाए अंतरराष्ट्रीय रिपेरियन कानून के आधार पर सही स्टैंड लेना चाहिए।

अमन अरोड़ा ने कांग्रेस और अकाली दल (बादल) की एसवाईएल की असली जड़ हैं, जिन्होंने ने शुरू से ही रिपेरियन कानून पर स्टैंड लेने की बजाए खुद एसवाईएल का सांप पंजाब के गले में डाल दिया। अमन अरोड़ा ने बताया कि 1976 में एकतरफा स्टेचरी आर्डर के द्वारा एसवाईएल की नींव रखी। 1978 में कांग्रेस की पंजाब के साथ धक्केशाही में भागीदार बनते प्रकाश सिंह बादल की सरकार ने एसवाईएल के लिए जमीन अधिग्रहण करने की नोटिफिकेशन जारी की। 1981 में जब प्रधान मंत्री इंद्रा गांधी की उपस्थिति में रिपेरियन कानून की धज्जियां उड़ा कर पानियों के बारे में पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के मुख्य मंत्रियों ने समझौता करने वाले चारों (प्रधान मंत्री और तीन मुख्यमंत्री) कांग्रेसी थे। इसी तरह जब कपूरी में इंद्रा गांधी ने एसवाईएल का कट लगाया तब बतौर सांसद अमरिन्दर सिंह खुद मौजूद थे। उसके उपरांत 1985 में राजीव-लौंगोवाल समझौते के अंतर्गत एक साल के अंदर-अंदर एसवाईएल का निमार्ण करने का वायदा भी पंजाब की पीठ में छुरा था।

अमन अरोड़ा ने कहा कि पिछले 40 साल से कांग्रेसियों और अकाली दल (बादल) ने एसवाईएल के विरुद्ध रिपेरियन कानून के मुताबिक स्टैंड न लेकर सिर्फ संकुचित राजनीति की है। अब फिर 2022 के चुनाव से पहले उसी तरह के भडक़ाऊ बियानबाजी शुरू कर दी है।

अमन अरोड़ा ने मुख्य मंत्री की ओर से पंजाब के नहरी पानियों की नए सिरे से पैमाइश के बारे में नया ट्रिब्यूनल गठन करने की मांग के साथ असहमति जताते हुए कहा कि यदि नया ट्रिब्यूनल कम हुए पानी के मुताबिक हरियाणा का हिस्सा कम कर दिया जाए तो क्या पंजाब के पानी की हो रही लूट रुक जाएगी? क्या ऐसा फैसला पंजाब को मंजूर होगा?

अमन अरोड़ा ने कहा कि रिपेरियन कानून के अंतर्गत ही पंजाब के पानियों की लूट रोक कर पंजाब के हित बचाए जा सकते हैं, क्योंकि कोई भी गैर-रिपेरियन प्रदेश पंजाब के पानियों पर हक नहीं जता सकता।

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

cm punjab lockdon

CM अमरिंदर सिंह बोले -अब बहुत हो चुका,विवाह और अंतिम संस्कार की रस्मों को छोड़ सभी कार्यक्रमों पर रोक

चंडीगढ़, 20 अगस्त: राज्य में बड़े स्तर पर बढ़ रहे कोविड के मामलों से निपटने …

error: Content is protected !!