Home / Crime / बर्बाद हुई फसल के मुआवजा राशि जारी करने की एवज में पटवारी मांग रहा था रिश्वत

बर्बाद हुई फसल के मुआवजा राशि जारी करने की एवज में पटवारी मांग रहा था रिश्वत

जींद(रोहताश भोला) : किसान की बर्बाद हुई धान की फसल का मुआवजा राशि जारी करने की एवज में 20 हजार रुपये ले रहे पटवारी को विजिलेंस की टीम ने रंगे हाथों काबू किया है। विजिलेंस की टीम ने पटवारी के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मामला दर्ज करके पूछताछ शुरू कर दी।

Advertisements

 

गांव पौली निवासी किसान रमेश ने विजिलेंस में दी शिकायत में बताया कि वर्ष 2017 में बरसात के चलते उनकी पांच एकड़ धान की फसल बर्बाद हो गई थी। बर्बाद हुई फसल का करीब 40 हजार रुपये मुआवजा मंजूर हुआ था। बर्बाद हुई फसल का सभी किसानों का मुआवजा उनके बैंक खातों में डाला जा चुका था, लेकिन पटवारी सेक्टर चार रोहतक निवासी रविंद्र उनकी मुआवजा राशि जारी करने के लिए रिश्वत की डिमांड कर रहा था। उसने पटवारी से उनकी मुआवजा राशि को खाते में डालने की मांग की, लेकिन पटवारी ने राशि को खाते में डालने के लिए 20 हजार रुपये की डिमांड कर रहा था। शिकायत मिलने पर सफीदों की बीडीपीओ कीर्ति सिरोहवाल को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त करके छापेमारी दल का गठन किया। जहां पर शिकायकर्ता किसान रमेश को दो-दो हजार के दस नोट ड्यूटी मजिस्ट्रेट के हस्ताक्षरयुक्त नोट दिए। जब किसान से पटवारी से फोन पर संपर्क किया तो उसने जुलाना पटवारखाने में बुला लिया। जहां पर रिश्वत के पैसे देते ही किसान ने टीम की तरफ इशारा कर दिया। टीम ने छापेमारी करके पटवारी के पर्स से रिश्वत के लिए हुए 20 हजार रुपये की नगदी को बरामद कर लिया। विजिलेंस इंचार्ज बलवान सिंह ने बताया कि आरोपित पटवारी को बुधवार को अदालत में पेश किया जाएगा।

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

rohtak-gurnam-singh

अंबावता के प्रदेशाध्यक्ष का समर्थन मिलते ही गुरनाम सिंह चढूनी ने कर दिया बड़ा एलान – देखें

रोहतक (सनी ) : केंद्र सरकार के 3 कृषि अध्यादेशों के विरोध में 20 सितंबर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!