Home / Haryana / कोई भूखा न सोये, जरुरतमंदो तक पहुंचा रही खाना सामाजिक व् धार्मिक संस्थाए

कोई भूखा न सोये, जरुरतमंदो तक पहुंचा रही खाना सामाजिक व् धार्मिक संस्थाए

रेवाड़ी (राजेश शर्मा) । कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सम्पूर्ण भारत लॉक डाउन के 15 दिन बीत गए है। लॉक डाउन खुलने में अभी छह दिन का समय शेष है ऐसे में गरीबो की मदद के लिए सरकार और प्रसाशन तो काम कर ही रहे है साथ ही कोई भी गरीब और जरूरतमंद भूखा न सोये इसके लिए विभिन्न सामाजिक और धार्मिक संगठन से जुड़े लोग भी मेहनत कर रहे है। रेवाड़ी में भी हर भूखे को भोजन मिले इस सोच के साथ आधा दर्जन से अधिक सामाजिक और धार्मिक सस्थाए लगातार दिन-रात काम कर रही है। यह संस्थाए अपने स्तर पर गरीब झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले और प्रवासी मजदूरों के लिए उनके घरो तक भोजन के पैकेट पहुंचा रहे है।

Advertisements

 

इन संस्थाओ में श्री श्याम दीवाना मंडल सेक्टर 01 सोलहराही, नई अनाज मंडी व्यापार मंडल, श्री घंटेश्वर महादेव मंदिर सेवा समिति समेत आधा दर्जन से अधिक संस्थाए सक्रीय होकर काम कर रही है। श्री श्याम दीवाना मंडल संस्था के संयोजक नवनीत सोनी ने बताया कि प्रतिदिन 4 से 5 हजार गरीब लोगो के लिए उनकी संस्था की ओर से मेन्यू के हिसाब से दोनों टाइम खाना बनाकर न केवल पैकेट तैयार किये जाते है बल्कि कोई घर से बाहर न निकले इसलिए उनके घरो तक खाने के पैकेट पहुंचाए जाते है उन्होंने कहा कि उनकी संस्था का उदेश्य है हर गरीब और जरूरतमंद को खाना मिले ताकि कोई भी भूखा न सोये।

 

उन्होंने बताया कि लॉक डाउन के पहले दिन से वे यह पुनीत काम निश्वार्थ भाव से कर रहे है और लॉक डाउन खुलने तक यह जारी रहेगा उन्होंने बताया कि इस सेवा के काम में करीब दो सौ वॉलंटियर्स रात दिन जुटे हुए है इसके अलावा खाना बनाने से लेकर पैक करने और बाँटने तक साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाता है। सभी वॉलंटियर्स सोशल डिस्टेंस के साथ काम करते है और मास्क और ग्लॉव्स आदि पहनकर काम करते है।

Advertisements
Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

GURNAM-SINGH-HARYANA-GOVT

गुरनाम सिंह चढूनी की चेतावनी- या तो सरकार फैसला वापस ले या किसानों को गोली मार दे।

पंचकूला। केंद्र सरकार द्वारा लाए जा रहे कृषि अध्यादेश के खिलाफ आज हरियाणा सहित पूरे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!