Home / Haryana / पीजीआई में कोविड-19 के मरीजों को मिल रही है ये खास डाइट – जानें

पीजीआई में कोविड-19 के मरीजों को मिल रही है ये खास डाइट – जानें

रोहतक (सनी ) : कोरोना वायरस की वैक्सीन भले ही नहीं बनी है, बावजूद इसके कोरोना के मरीज ठीक हो रहे हैं इसकी एक बड़ी वजह हेल्दी डाइट भी है।पीजीआई के डॉक्टरों के अनुसार पीजीआई रोहतक के डायटिशियन द्वारा अस्पताल में भर्ती मरीजों को स्पेशल डाइट दी जा रही है, जो मरीजों के इम्यून सिस्टम को बूस्ट कर रिकवर करने में मदद कर रही है।

Advertisements

 

हैल्थ एक्सपर्ट की मानें तो कोरोना वायरस व्यक्ति के इम्यून सिस्टम को सीधे तौर पर प्रभावित करता है, जिसके कारण उसकी जान भी जा सकती है।लेकिन रोहतक पीजीआई में भर्ती कोरोना के मरीजों को जल्द से जल्द स्वस्थ करने में पीजीआई की किचन अहम भूमिका निभा रही है। पीजीआई रसोई के कर्मचारी सुबह पांच बजे पहुंचकर मरीजों के लिए तैयार किए गए मेन्यू को फोलो करते हैं और खाना बनाने में जुट जाते हैं। डायटिशियन ज्योति बताती हैं कि पीजीआई की रसोई में कोरोना के मरीजों के खाने का उनकी टीम खास तरीके से ख्याल रख रही है। रोजाना उनकी किचन में पौष्टिक आहार तैयार कर मरीजों व आईसोलेशन स्टाफ तक भेजा जाता है, पूरा काम सफाई व एक तय प्रक्रिया के अनुसार किया जाता है। हर रोज घर जाने से पहले डायटिशियन अगले दिन का मेन्यू तैयार कर उसकी सामग्री को इक्ट्ठा करते हैं और अगली सुबह कुक किचन में आकर खाना तैयार करते हैं।

 

डायटिशियन ज्योति व उनकी टीम द्वारा तैयार किए गए डाइट प्लान के अनुसार मरीजों और आईसोलेशन वार्ड के स्टाफ को दिन में तीन बार खाना दिया जाता है, जिसमें ब्रेक फास्ट, लंच व डिनर शामिल होता है. मरीजों को सुबह 6 बजे बैड टी और शाम को भी चाय दी जाती है। नाश्ते की बात करें तो मरीजों को ब्रैड या सैंडविच, पनीर, दलिया के साथ दूध दिया जाता है,उसके बाद ठीक 12 बजे लंच में रोटी, चावल, दाल, पनीर, सब्जी, दही व फल दिए जाते हैं।

Advertisements

वहीं डिनर में मरीजों को रोटी, चावल, दाल, सब्जी और स्वीट डिश यानि कुछ मीठा परोसा जाता है, पूरे दिन का आहार पर्याप्त मात्रा में ही दिया जाता है जो उनकी सेहत के लिए बेहद जरूरी है, क्योंकि उसमें खास तौर पर प्रोटीन व विटामिन भरपूर मात्रा में होते हैं। स्पैशल तैयार किया हुआ खाना हर रोज लगभग एक हजार लोगों तक पहुंचता है, जिसमें कोरोना मरीज, सामान्य वार्ड के मरीज और आईसोलेशन वार्ड में तैनात स्टाफ शामिल है.

 

पीजीआई के निदेशक रोहताश यादव के अनुसार पीजीआई की खास डाइट की वजह से अभी तक तकरीबन 42 कोरोना मरीज भी ठीक हो चुके हैं, क्योंकि, ये आहार धीरे धीरे मरीजों के इम्यून सिस्टम को बूस्ट करता है, जिससे कोरोना के मरीजों को रिकवर करने में आसानी होती है।

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

यूजीसी मानव संसाधन विकास केन्द्र

कानून प्रावधानों व सामाजिक रूपांतरण के बदलते स्वरूप को समझना बेहद महत्वपूर्ण : प्रो. अमरपाल सिंह

कुरुक्षेत्र, 28 सितम्बर। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के पंचवर्षीय विधि संस्थान व यूजीसी मानव संसाधन विकास केन्द्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!