Home / Chandigarh / भारतीय किसान यूनियन ने दी सरकार को चेतावनी,कहा -10 सिंतबर को पूरे प्रदेश में होगा आंदोलन

भारतीय किसान यूनियन ने दी सरकार को चेतावनी,कहा -10 सिंतबर को पूरे प्रदेश में होगा आंदोलन

चंडीगढ़ : हरियाणा सरकार खुद को किसान हितैषी बताने के लिए कई अभियान चला रही है। वहीं दूसरी तरफ किसान संगठन लगातार अध्यादेश के विरोध में उतर रहे हैं। बुधवार को भारतीय किसान यूनियन ने बैठक कर सरकार के खिलाफ आंदोलन चलाए जाने को लेकर चर्चा की गई।

Advertisements

भारतीय किसान यूनियन ने तय किया है कि 15 अगस्त को हरियाणा के सभी जिला मुख्यालयों पर अध्यदेशों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जाएगा और तीनों अध्यदेशों की प्रतियां जलाई जाएंगी। इसी के साथ किसान यूनियन ने 10 सितंबर तक का सरकार को अल्टीमेटम दिया है। 10 सितंबर को बड़े आंदोलन की भी चेतावनी दी गई है।

भारतीय किसान यूनियन हरियाणा के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से लाए जा रहे अध्यादेश एमएसपी और मंडियों को तोड़ने वाले हैं। उन्होंने इसे किसान विरोधी करार देते हुए किसी भी हाल में लागू नहीं होने देने की चेतावनी भी दी। हालांकि गुरनाम सिंह चढूनी यह भी कहते नजर आए कि अध्यदेशों के साथ अगर सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य का एक और कानून बनाती है तो वह विरोध बंद कर देंगे।

Advertisements

हरियाणा सरकार जहां अन्य देशों के लागू होने के बाद किसानों के सीधे व्यापार करने के रास्ते खुलने की बात कर रही है। वहीं इसमें किसान संगठन क्यों खिलाफत कर रहे हैं। इस सवाल पर गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि वो किसी भी खुले मंच पर सरकार से बातचीत के लिए तैयार है। मंडियों से बाहर खरीद पर टैक्स में छूट है जबकि मंडियों में खरीद पर टैक्स है। ऐसे में व्यापारी मंडी में क्यों खरीदने आएंगे, उन्होंने कहा इन अध्यक्षों के आने से एमएसपी टूटेगी और मंडिया भी टूटेगी।

गुरनाम सिंह ने कहा कि इसका फायदा पूंजीपतियों के हक में जाएगा, क्योंकि पहले एग्रीमेंट होने के बाद में अगर दाम कम होते हैं, तो कंपनियां किसान की फसल में कमियां निकालकर एग्रिमेंट तोड़ सकती है, जबकि एग्रीमेंट तोड़ने के बाद किसान कोर्ट भी नहीं जा सकता। वहीं दूसरी तरफ अगर किसी कंपनी से पहले एग्रीमेंट होने पर बाद में दाम बढ़ जाते हैं तो किसान एग्रीमेंट नहीं तोड़ सकता। गुरनाम सिंह ने कहा कि सरकार बड़े व्यापारियों और पूंजीपतियों को लाभ देना चाहती है जबकि देश में स्टॉक सीमा को खत्म करना चाहती है।

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

punjab-cm-amrinder-singh

कृषि अध्यादेश मामला : किसानों को CM अमरिंदर की दो टूक, कहा – विरोध करना है तो दिल्ली जाकर करें, हम किसानों के साथ है

चंडीगढ़। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता में पंजाब कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल वीपी …

error: Content is protected !!