कोरोना पॉजीटिव पुलिसकर्मियों के लिए तैयार की गई विशेष कोरोना सेफ्टी किट, जानें

0
96

झज्जर(सुमित कुमार) : झज्जर लघु सचिवालय में एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। पुलिस अधीक्षक झज्जर राजेश दुग्गल के दिशा निर्देश अनुसार आयोजित प्रेस कांफ्रेंस के दौरान डीएसपी झज्जर राहुल देव ने जिले में महामारी संक्रमण से संक्रमित जवानों के उपचार व उनकी इम्यूनिटी पावर को बढ़ाने के लिए विशेष रूप से तैयार की गई किट तथा लॉकडाउन के दौरान की गई पुलिस व्यवस्थाओं के संबंध में विस्तृत जानकारी दी।

 

उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी से संक्रमित जवानों के उपचार में किसी प्रकार की कोई कमी ना रह जाए, इसी को मद्देनजर रखते हुए पुलिस अधीक्षक राजेश दुग्गल द्वारा पहल करते हुए जवानों के वेलफेयर के मद्देनजर विशेष रुप से कोरोना सेफ्टी किट तैयार करवाई गई है। पुलिस लाइन डिस्पेंसरी प्रभारी संजीव कुमार की देखरेख में तैयार किट में सैनिटाइजर, मास्क, दस्ताने, पैरासिटामोल, विटामिन सी की टेबलेटस, गिलोय वटी, आयुष काढ़ा, होम्योपैथिक दवाई, डिजिटल थर्मामीटर, ऑक्सीमीटर तथा विशेष रूप से तैयार किया गया चवनप्राश शामिल किया गया है। विशेष रूप से तैयार की गई है किट सभी संक्रमित पुलिस जवानों के पास उनके घर पहुंचाई जा रही है। ताकि सभी संक्रमित जवान किट में दी गई दवाइयों तथा इम्यूनिटी बूस्टर का इस्तेमाल करके जल्द स्वस्थ हो सकें।

 

उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण की चैन को तोड़ने तथा महामारी की रोकथाम के लिए सरकार द्वारा हरियाणा प्रदेश में लॉकडाऊन लागू किया गया है। लॉकड़ाऊन के दौरान जारी किए गए निदेशों व आदेशों की पालना कराने के लिए झज्जर पुलिस द्वारा जिला में विभिन्न स्थानों पर विशेष नाके, गश्त पार्टियां, पीसीआर, राइडर्स व अन्य आवश्यक ड्यूटियों पर जिला की अधिकतर पुलिस फोर्स को तैनात किया गया। लगातार फील्ड एरिया में तैनात पुलिस के जवानों को संक्रमण से सुरक्षा के मद्देनजर लगातार मास्क व सैनिटाइजर का उपयोग करने तथा अन्य सावधानियां रखने बावजूद भी जिला के अनेक जवान संक्रमित हो गए। जवानों को ड्यूटी के दौरान विभिन्न प्रकार के लोगों का सामना करना पड़ता है। फ्रंटलाइन कोरोना वॉरियर्स के तौर पर ड्यूटी पर तैनात पुलिस जवानों के संक्रमित होने की संभावना अधिक रहती हैं। जवानों का लगातार स्वास्थ्य परीक्षण भी कराया जा रहा है।

 

स्वास्थ्य परीक्षण के दौरान लगातार ड्यूटी पर तैनात रहने तथा संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आने के कारण पुलिस के अब तक 209 जवान भी महामारी से संक्रमित भी पाए गए। संक्रमित जवानों व उनके परिजनों के स्वास्थ्य को मध्येनजर रखते हुए पुलिस लाईन झज्जर में स्थित डिस्पेंसरी तथा कम्युनिटी सेंटर को कोविड केयर सैंटर के तौर पर तब्दील कर दिया गया। जहां पुलिस के जवानों व उनके परिजनों के उपचार हेतु बैड, ऑक्सीजन व अन्य आवश्यक दवाओं का इंतजाम भी किया गया है। संक्रमित पाए गए अधिकतर जवानों को होम आइसोलेट करके चिकित्सकों की देखरेख में उपचार किया जा रहा है। संक्रमित 209 जवानों में से 78 जवान ठीक होकर नेगेटिव भी हो चुके हैं तथा 129 जवान अभी कोरोना पॉजिटिव चल रहे हैं। होम आइसोलेट किए गए जवानों की सुविधा व किसी भी प्रकार की समस्या के निवारण के लिए एक व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया गया है। ग्रुप के माध्यम से प्रत्येक जवान से लगातार संपर्क में रहता है। व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से पुलिस लाइन डिस्पेंसरी प्रभारी द्वारा जवानों को लगातार किस समय कौन सी दवाई लेनी है, कब और कैसे भाप लेनी है, क्या खाना है, कैसे एक्सरसाइज करनी है, इत्यादि बारे समझाया जाता है।

 

 

डीएसपी राहुल देव ने बताया कि एसपी के दिशा निर्देश अनुसार जिला के सभी पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए महामारी संक्रमण से बचाव के मध्य नजर पर्याप्त मात्रा में मास्क व सैनिटाइजर तथा प्राथमिक उपचार के तौर पर अन्य आवश्यक दवाएं जिनमें गिलोय वटी तथा विटामिन सी की गोलियां भी शामिल है उपलब्ध करवाए गए हैं। जवानों को एक दूसरे से उचित दूरी बनाए रखने तथा हाथों को लगातार सैनिटाइज करने बारे आवश्यक दिशा निर्देश किए गए हैं। उन्होंने बताया कि झज्जर पुलिस में तैनात 50 वर्ष से अधिक उम्र के ऐसे पुलिस कर्मचारियों को जो किसी गंभीर बीमारी जैसे अस्थमा, तनाव/उच्च रक्तचाप, दिल की बीमारी, कैंसर, शुगर या अन्य किसी जानलेवा बीमारी से ग्रसित हैं तथा प्रेग्नेंट महिला पुलिस कर्मचारियों को ड्यूटी से छूट देते हुए उन्हें विश्राम दिया गया है। ताकि वे स्वयं के स्वास्थ्य का बेहतर ध्यान रखते हुए किसी प्रकार से महामारी के संक्रमण से सुरक्षित रह सकें लॉकडाउन के दौरान जिला में की गई पुलिस व्यवस्थाओं के संबंध में जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि महामारी संक्रमण की चैन को तोड़ने के उद्देश्य से सरकार द्वारा आमजन के हित में लॉकडाउन लगाया गया है।

 

लॉकडाउन के मद्देनजर पुलिस की विभिन्न टीमें जिला की सीमाओं सहित आबादी वाले इलाकों में लगातार तैनात हैं। दुग्गल के दिशा निर्देश अनुसार जिला की सीमाओं सहित अन्य स्थानों पर 55 से अधिक विशेष नाके लगाए गए हैं। इसके अतिरिक्त स्थानीय पुलिस द्वारा आम लोगों को महामारी संक्रमण के प्रति सावधान रहने व जागरूक करने के उद्देश्य से लगातार फ्लैग मार्च भी निकाले जा रहे हैं। लॉकडाउन के नियमों का जानबूझकर उल्लंघन करने पर अनेक मुकदमें भी दर्ज किए गए हैं तथा अनेक लोगों के बिना मास्क लगाए पाए जाने पर चालान भी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस का उद्देश्य लोगों के खिलाफ मुकदमें या चालान करने का नहीं है। बल्कि उन्हें संक्रमण से बचाए रखने का है। फिर भी कुछ लोगो द्वारा जानबूझकर नियमों का उल्लंघन करने पर पुलिस को मजबूरन कार्रवाई करनी पड़ती है।

 

पुलिस द्वारा लॉकडाउन के दौरान पिछले करीब 6 दिन में 123 मुकदमें दर्ज किए गए हैं। जिनमें 123 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इसके अतिरिक्त जानबूझकर बिना मास्क लगाए सड़कों पर घूमते पाए जाने पर इसी अवधि के दौरान करीब 1500 व्यक्तियों के मास्क चालान भी किए गए हैं। चालान के साथ-साथ स्थानीय पुलिस की विभिन्न टीमों द्वारा मास्क भी निशुल्क वितरित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि झज्जर एसपी के कुशल नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में आमजन को महामारी से बचाए रखने के लिए बेहतरीन कार्य कर रही है। जिला के चप्पे-चप्पे पर तैनात पुलिस की विभिन्न टीमों द्वारा प्रत्येक गतिविधि पर निगाह रखी जा रही है। नियमों के विरुद्ध कार्य करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई भी अमल में लाई जा रही है। उन्होंने जिला के आमजन से अपील करते हुए कहा कि सभी लॉकडाउन के नियमों का पालन स्वेच्छा से करें और इस महामारी संक्रमण की चैन को तोड़ने में स्थानीय पुलिस प्रशासन का सहयोग करें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here