Home / Uttrapradesh -Bihar / घाघरा ने मचाई तबाही, सैकड़ो एकड़ भूमि घाघरा में विलीन

घाघरा ने मचाई तबाही, सैकड़ो एकड़ भूमि घाघरा में विलीन

बलिया/ यूपी(संजय कुमार तिवारी) ।एक तरफ कोरोना संकट की त्रासदी से लोग जूझ रहे हैं। तो दूसरी तरफ घाघरा नदी ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। बारिश की वजह से घाघरा नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि जारी है। वहीं सैकड़ों बीघा उपजाऊ जमीन घाघरा नदी समाहित हो चुकी है। बता दें कि बाँसडीह तहसील के क्षेत्र के उत्तरी छोर पर घाघरा नदी उफान पर चल रही है। जिले के दक्षिणी छोर पर गंगा नदी के जलस्तर में भी वृद्धि हो रही है। और पूर्वी छोर पर दोनों नदियां एक साथ मिल जाती हैं। यानि तीनों तरफ से बलिया जनपद नदियों से घिरा हुआ है।ऐसे में घाघरा नदी ने रौद्र रूप धारण कर लिया। उपजाऊ जमीन तो घाघरा नदी प्रतिदिन निगल रही हैं।अब घरों की बारी है। लोग सहमें हुए हैं।ये भी पढ़ें : – CBSE 10th Results 2020 : मिलिए चंडीगढ़ की TOPPER से स्नेहा रानी से,जाने Grand Success का मूल मंत्र

Advertisements

बाढ़ खण्ड के मीटर गेज के अनुसार 15 जुलाई की सुबह 8 बजे डीएसपी हेड पर 64.190 मापा गया, जब कि खतरा बिंदु 64.01 है, उच्चतम खतरा बिंदु 66.00 है।ऐसे में कटान से किसानों के खेत सैकड़ो बीघा रोज घाघरा नदी में विलीन हो रहे हैं. 56 गाँवो की लगभग 85,000 आबादी को घाघरा नदी ने अपने आगोश में लिया है।

मनियर के दियारा क्षेत्र के ककरघट्टा ,रिगवन , छावनी, नवकागाँव, बिजलीपुर, कोटवा, मल्लाहि चक, चक्की दियर, टिकुलिया आदि गाँवों के किसानों के लगभग हजारों एकड़ खेत घाघरा में समाहित हो चुके हैं। और मौके पर पहुँचे एस डीएम बाँसडीह दुष्यंत कुमार मौर्य , तहसीलदार गुलाब चन्द्रा , मनियर थानाध्यक्ष नागेश उपाध्याय पहुंचे। एस डीएम ने राहत दिलवाने की बात कही। अब देखने वाली बात होगी कि घाघरा नदी अपना रौद्र रूप कहीं 1998 की तरह न धारण कर ले।

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

balia-news

UP: बलिया में ‘कस्टडी में टॉर्चर’ की घटना को लेकर स्थानीय लोगों ने पुलिस पर किया पथराव

बलिया (संजय कुमार तिवारी) । बलिया जनपद के रसड़ा काेतवाली थाना क्षेत्र के दक्षिणी चाैकी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!