Home / Haryana / नौकरी छोड़ खेतों में उगाई रंग बिरंगी सब्जियां,बेचने को नहीं मिल रहा बाजार

नौकरी छोड़ खेतों में उगाई रंग बिरंगी सब्जियां,बेचने को नहीं मिल रहा बाजार

जींद (रोहताश भोला ): आमतौर पर बाजार में 3-4 तरह की ही गोभी आम देखने को मिलती है। लेकिन अब आप देखेंगे 7 तरह की गोभी, 3 रंग की शिमला मिर्च और 3 तरह के करेला। ये सब्जियां हर किसी के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं ये कारनामा जींद के रहने वाले दो युवकों ने कर दिखाया है। इन दोनों युवकों ने 9 माह पहले प्राइवेट नौकरी को छोड़कर अत्याधुनिक मल्टी वैरायटी वैजीटेरियन क्रॉप को चुना । और इसके लिए बकायदा दोनों ने कई जगहों पर ट्रेनिंग भी ली। जिसके बाद एक एकड़ के खेत में जमीन पर नेट हाऊस लगाया, और खेती शुरू कर दी। अब फसल ने पैदावार देनी शुरू कर दी है। लेकिन दोनों भाईयों के सामने सबसे बड़ी समस्या खड़ी हो गई है कि अब इन रंग-बिरंगी सब्जियों को वे कहां बेचे। क्योंकि आसपास की सब्जी मंडी में इनकी इतनी डिमांड नहीं है और बड़े शहरों के बिग बाजार या फिर मार्ट आदि में लॉकडाउन के चलते इन्हें पहुंचा पाना आसान नहीं है। हालांकि दोनों भाई इस प्रयास में हैं ऑनलाइन आर्डर लेकर इन सब्जियों को किसी तरह से चंडीगढ़, दिल्ली आदि शहरों मेें खुले बिग बाजार तक पहुंचाया जाए।

Advertisements

 

amit logistics chandigarh जानिए…कितने रंगों और प्रकार की गोभी और शिमला मिर्च उगाई हैं गोभी:

अमूमन 3-4 तरह की ही गोभी आम देखने को मिलती है। लेकिन सोनू व पवन ने अपने नेट हाऊस में 7 रंग की गोभी उगाई है। इसमें पीली गोभाी, गुलाबी गोभी, ब्रोकली गोभी जिसका रंग गाडा हरा होता है, सफेद फूल गोभी, पत्ता गोभी और गांठ गोभी शामिल हैं। फिलहाल इनके नेट हाऊस में सभी प्रकार की गोभी उपलब्ध है।

Advertisements

शिमला मिर्च: इसी तरह से दोनों भाईयों ने 3 तरह की शिमला मिर्च उगाई हैं। इसमें लाल, पीली और हरे रंग की शिमला मिर्च शामिल हैं।

करेला: करेले की भी इनके पास 3 तरह की वैरायटी हैं। इसमें एक लंबे साइज का करेला, एक बिल्कुल छोटा तो तीसरा आम साइज का करेला शामिल हैं।

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

jind-kisann-dharna

जींद में कृषि अध्यादेशों के विरोध में आढ़तियों का अनिश्चितकालीन धरना

जींद(रोहताश भोला) : नए कृषि अध्यादेशों के विरोध में आढ़तियों ने हड़ताल करते हुए अनिश्चितकालीन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!