Breaking News
Home / Haryana / 10 सितंबर को पिपली में भाकियू की रैली,प्रशासन ने लगाई थ्री टायॅर से भी ज्यादा मजबूत सुरक्षा व्यवस्था

10 सितंबर को पिपली में भाकियू की रैली,प्रशासन ने लगाई थ्री टायॅर से भी ज्यादा मजबूत सुरक्षा व्यवस्था

कुरुक्षेत्र (विनोद खुंगर) । तीन अध्यादेशों के विरोध में भारतीय किसान यूनियन की 10 सितंबर को पिपली में प्रायोजित रैली को लेकर किसान संगठन और प्रशासन आमने-सामने आ गए हैं। किसान नेताओं ने अपनी मांगों को लेकर रैली की तैयारियां तेज कर दी हैं तो प्रशासन की ओर से किसान नेताओं को नोटिस भेजने शुरू कर दिए हैं। कोरोना के इस दौर में किसान रैली को लेकर प्रशासन भी सतर्क हो गया है।

Advertisements

कुरुक्षेत्र की उपायुक्त शरणदीप कौर बराड़ ने कहा कि कोरोना वायरस एक महामारी का रूप धारण कर चुका है। इस महामारी से आमजन को बचाने के लिए प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी दिन-रात कार्य कर रहे है। ऐसे कठिन समय पर आमजन व किसानों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए 10 सितम्बर की पिपली अनाजमंडी किसान रैली के लिए अनुमति नहीं दी है। प्रशासन द्वारा बार-बार अपील की जा रही है कि किसान और आमजन अपने घरों में ही रहे और रैली स्थल पर ना पहुंचे। इन तमाम पहलुओं को देखते हुए और सभी के स्वास्थ्य की चिंता करते हुए प्रशासन ने पूरे कुरुक्षेत्र जिले में थ्री टॉयर से भी ज्यादा मजबूत सुरक्षा व्यवस्था के प्रबंध किए है। इतना ही नहीं थानेसर, पिहोवा, शाहबाद, और लाडवा में डयूटी मैजिस्ट्रेट भी नियुक्त किए गए है। अहम पहलु यह है कि पूरे कुरुक्षेत्र जिले में 54 पुलिस नाके भी लगाएं गए है।

उपायुक्त शरणदीप कौर बराड़ बुधवार को देर सायं पिपली अनाजमंडी में किसान रैली में किसान ना पहुंचे और किसानों को कोरोना वायरस से बचा कर रखें जैसे विषयों को लेकर अधिकारियों की एक बैठक को सम्बोधित कर रही थी। उपायुक्त ने इस किसान रैली को लेकर किए गए सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम, बसों, क्रेन, फायर ब्रिगेड, बैरिगेट सहित अन्य व्यवस्थाओं को लेकर फीडबैक रिपोर्ट हासिल की है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी का प्रकोप कुरुक्ष्ेात्र जिले में बहुत ज्यादा है, इस जिले के कोरोना आंकडे को देखते हुए सहजता से आंकलन किया जा सकता है कि इस जिले में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ रही है। इस लिए सभी लोगों और किसानों से अनुरोध किया जा रहा है कि खुद की सेहत, परिजनों की सेहत और आम नागरिकों के स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए लोग अपने घरों से बाहर ना निकलें और किसानों से भी अपील की जा रही है कि 10 सितम्बर की पिपली अनाजमंडी में होने वाली किसान रैली में ना पहुंचे।

Advertisements

 

 

प्रशासन ने इस रैली के लिए आयोजकों को अनुमति नहीं दी है, इसलिए अगर इस रैली के आयेाजन का प्रयास किया जाता है तो वह गैर कानूनी होगा। उन्होंने कहा कि प्रशासन ने लोगों के स्वास्थ्य को जहन में रखते हुए सुरक्षा व्यवस्था के कडे प्रबंध किए है। जीएम रोडवेज को बसों का प्रबंध करने, क्रेन का प्रबंध करने, नगरपरिषद को फायर बिग्रेड का प्रबंध करने, जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को पीने के पानी की व्यवस्था करने, पुलिस प्रशासन को सुरक्षा व्यवस्था व बैरिगेटिंग करने के आदेश दिए है। इन सुरक्षा व्यवस्था पर पैनी निगाहेें रखने के लिए डयूटी मैजिस्ट्रेट नियुक्त किए गए है और तमाम गतिविधियों को वीडियों कैमरा से रिकार्ड भी किया जाएगा।

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

yashpal-malik-jaat-neta

कृषि अध्यादेशों से किसान तो मरेगा ही लेकिन मजदूर उनसे पहले मरेगा-जाट नेता यशपाल मलिक

रोहतक (सनी) । कृषि अध्यादेशों के विरोध में जाट आरक्षण संघर्ष समिति भी आ गई …

error: Content is protected !!