Breaking News
Home / Chandigarh / कैग रिपोर्ट के आधार पर कांग्रेस ने हरियाणा में बताया 5 हजार करोड का खनन घोटाला

कैग रिपोर्ट के आधार पर कांग्रेस ने हरियाणा में बताया 5 हजार करोड का खनन घोटाला

चंडीगढ,30 नवम्बर। हरियाणा विधानसभा में 31 सदस्यों के साथ पहुंची कांग्रेस ने मुख्य विपक्षी दल के दर्जे के साथ प्रदेश की पिछली भाजपा सरकार पर खासा राजनीतिक हमला किया है। इस मौसम में चल रही धान की खरीद में घोटाला बताते हुए सीबीआई जांच की मांग करने के बाद कांग्रेस ने शनिवार को यहां कैग रिपोर्ट में बताए गए पिछले चार साल के पांच हजार करोड के अवैध खनन घोटाले की सीबीआई जांच की मांग की।

Advertisements

 

 

अवैध खनन घोटाले को कांग्रेस ने कितना महत्व दिया है इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि हरियाणा के कैथल से पूर्व विधायक और अखिल भारतीय कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला इस मामले में पत्रकारों से बातचीत के लिए विमान से चंडीगढ पहुंचे। सुरजेवाला और हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कैग रिपोर्ट में बताए गए पांच हजार करोड रूपए के अवैध खनन घोटाले की जांच हाईकोर्ट के मौजूद जज से कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि हरियाणा में बगैर ठेकों के अवैध खनन किया जा रहा है। यमुनानगर और यमुना नदी में अवैध खनन के चलते नदी ने अपना रास्ता बदल दिया है। उन्होंने कहा कि पिछले चार साल से ये गतिविधियां खनन माफिया,अधिकारी और सरकार के गठजोड से चल रही है। कैग ने इसकी कलई खोल दी है। कैग ने तथ्य आधार पर खुलासा किया है।

 

सुरजेवाला ने कहा कि कैग ने खनन मामले में ठोस तथ्य रखे है। कैग ने बताया है कि खान की नीलामी में सरकार यह आकलन भी नहीं कर पाई की खान से कितना खनिज प्राप्त किया जा सकता है। कैग के ही अनुसार खनन किए गए खनिज की ढुलाई का रिकॉर्ड सरकार द्वारा नहीं रखा गया। करीब 95 खानों की जांच का रिकॉर्ड नहीं रखा गया। सरकार ने 1476 करोड रूपए तो ठेकेदारों से ही वसूल नहीं किए। करीब 69 ठेकेदारों से किस्त और ब्याज के 1155 करोड रूपए नहीं वसूल किए गए। भूस्थैतिक सर्वे में खुलासा किया गया है कि खनन के लिए आरक्षित क्षेत्र के मुकाबले 204 फीसदी अधिक क्षेत्र में खनन हो रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार ने 95 खानों का भूस्थैतिक सर्वे करवाया है तो सभी खानों का इसी तरह का सर्वे करवाया जाए। इससे पता चलेगा कि कितने क्षेत्र में अवैध खनन किया गया। तीन चौथाई ठेकेदार अपने क्षेत्रों में अधिकृत क्षेत्र से दोगुने क्षेत्र में खनन कर रहे है। इससे पिछले चार वर्षों में पांच हजार करोड के राजस्व की क्षति हुई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृृहमंत्री अमित शाह कैग को अंतिम जांच एजेंसी बताते रहे है तो इसकी रिपोर्ट के आधार पर हाईकोर्ट के मौजूदा जज से जांच कराई जाए। सीबीआई और ईडी पर भरोसा नहीं किया जा सकता है।

Advertisements
Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

toahana-bijlai

बिजली विभाग के खिलाफ धरना दे रहे किसानों को मनाने पहुंचे टोहाना एसडीएम,किसान बोले – नहीं मिला ठोस आश्वासन, धरना रहेगा जारी

टोहाना (नवल सिंह) । जिला फतेहाबाद टोहाना की जाखल में बिजली विभाग द्वारा की जा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!