Home / Haryana / गृहमंत्री विज की राह पर चले सीएम मनोहर,पहले ही दिन कर दिया 4 का काम

गृहमंत्री विज की राह पर चले सीएम मनोहर,पहले ही दिन कर दिया 4 का काम

करनाल (मैनपाल कश्यप) । हरियाणा के करनाल स्थित जिला सचिवालय में सोमवार को खासी हडबडी का माहौल था। कारण था मुख्यमंत्री मनोहर लाल अचानक जिला सचिवालय पहुंचे और तहसीलदार समेत चार कर्मचारियों को अचानक निलंबित कर दिया। मुख्यमंत्री के रूप में मनोहर लाल की दूसरी पारी में यह नई कार्यशैली है।

Advertisements

यह माना जा रहा है कि हाल के विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ भाजपा के साधारण बहुमत भी हासिल न कर पाने के बाद किए गए मंथन से सरकार ने यह आक्रामक रूख अपनाया है। इससे पहले तक अचानक विभाग का दौरा करने और कमी पाए जाने पर अधिकारियों और कर्मचारियों को अचानक निलंबित करना प्रदेश के मौजूदा गृृहमंत्री अनिल विज की कार्यशैली मानी जाती थी। लेकिन अब यह साफ दिखाई दे रहा है कि सत्तारूढ भाजपा ने दूसरे चुनाव में साधारण बहुमत से दूर रहने का कारण भ्रष्टाचार और उससे पैदा हुई आमजन की परेशानियों को मान लिया है।

 

पिछले पांच साल के दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल यह कहते हुए नहीं थकते थे कि प्रदेश में उनकी सरकार ने कई जनसेवाओं को ऑनलाइन कर भ्रष्टाचार की गुजाइश ही समाप्त कर दी है। इन सेवाओं में सम्पत्ति का रजिस्ट््ीकरण भी शामिल है। लेकिन अब मुख्यमंत्री ने अपने स्वयं के निर्वाचन क्षेत्र. करनाल के तहसील कार्यालय में सम्पत्ति रजिस्ट््ीकरण में भ्रष्टाचार को महसूस किया और अचानक तहसीलदार व नायब तहसीलदार समेत चार कर्मचारियों को निलंबित कर दिया। साफ तौर पर मुख्यमंत्री ने यह मान लिया है कि वे समूचे प्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त करना तो दूर अपने निर्वाचन क्षेत्र में भी भ्रष्टाचार समाप्त नहीं कर पाए।

Advertisements

 

करनाल के बारे में एक और बात यह जुडी है कि हाल में ही प्रदेश के गृृह एवं शहरी निकाय मंत्री अनिल विज ने करनाल नगर निगम के पांच कर्मचारियों को लापरवाही के मामले में निलंबित किया था। विज की इस कार्रवाई पर सुगबुगाहट में कुछ आलोचना भी सुनाई दी थी। लेकिन अब उसी शैली में मुख्यमंत्री भी कार्रवाई कर रहे है। विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद जब भाजपा को साधारण बहुमत भी नहीं मिला था तब यह कारण बताया जा रहा था कि लोग महकमों में अपने काम न होने और मंत्रियों द्वारा सुनवाई न किए जाने से परेशान थे। पिछली सरकार में सरकार लोगों को सलाह देती थी कि उन्हें किसी काम के लिए चंडीगढ आने की जरूरत नहीं है। उन्हें कोई शिकायत है तो उसे ऑनलाइन मुख्यमंत्री के पटल पर भेजें।

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

rohtak-gurnam-singh

अंबावता के प्रदेशाध्यक्ष का समर्थन मिलते ही गुरनाम सिंह चढूनी ने कर दिया बड़ा एलान – देखें

रोहतक (सनी ) : केंद्र सरकार के 3 कृषि अध्यादेशों के विरोध में 20 सितंबर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!