Breaking News
Home / Crime / कैशबैक का लालच देकर ठगी करने वाले गिरोह के 47 लोग गिरफ्तार

कैशबैक का लालच देकर ठगी करने वाले गिरोह के 47 लोग गिरफ्तार

नोएडा (उत्तर प्रदेश), 28 नवंबर: ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी फ्लिपकार्ट के नाम से लोगों को फोन करके उन्हें कैशबैक और लाटरी के माध्यम से उपहार देने का लालच देकर ठगी करने वाले एक गिरोह के 47 लोगों को नोएडा साइबर सेल ने बुधवार रात को गिरफ्तार किया।

Advertisements

 

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गौतम बुध नगर वैभव कृष्ण ने बताया कि थानाध्यक्ष नॉलेज पार्क के प्रभारी निरीक्षक/ साइबर सेल प्रभारी बलजीत सिंह को सूचना मिली कि नोएडा के सेक्टर 6 और 7 में दो ऐसे फर्जी कॉल सेंटर चल रहे हैं। वे लोग अपने आपको ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी फ्लिपकार्ट के कर्मचारी बताकर, सीधे-साधे लोगों को फोन करते हैं।

उन्होंने बताया कि ये लोग ऑनलाइन शॉपिंग के बाद कैशबैक तथा लॉटरी निकलने की बात कहकर लोगों को अपने जाल में फंसाते हैं।

 

अधिकारी ने बताया कि सूचना के आधार पर पुलिस ने सेक्टर 6 और 7 में स्थित दोनों कंपनियों पर छापा मारा। जहां से लोगों को ऑनलाइन फोन करके अपने जाल में फंसाया जा रहा था।

उन्होंने बताया कि पुलिस ने मौके से नसरीन, अंशु, शशि, प्रेमलता, अंकिता, जितेंद्र, राहुल, आशीष तवर, साजिद, किशन, बाबू कुमार, आशीष, चंदन, आकाश, विकास सिंह, कृष्ण, सनोवर, दीपिका, मौसम कुमारी, साजिया मलिक, रशीदा, प्रवीण, प्रीति, अनीता तिवारी, अरुणा, प्रीति, दिलीप, सरोज, नंदन, राधिका, शिप्रा, मानवीय, हिमांशी, प्रिया, बंदना, पीहू, सहित 47 लोगों को गिरफ्तार किया है।

 

कृष्ण ने बताया कि पूछताछ के दौरान पकड़े गए आरोपियों ने पुलिस को बताया है, कि इस कॉल सेंटर के मालिक का नाम दिलीप है। विकास व कृष्णा नामक दो लोग इनके टीम लीडर है। ये लोग ही इन्हें फर्जी सिम व फ्लिपकार्ट का डेटा उपलब्ध कराते हैं।

पुलिस कॉल सेंटर के मालिक और टीम लीडर को तलाश रही है। पुलिस इस संबंध में आगे की औपचारिकताएं पूरी कर रही है।

(भाषा)

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

PANIPAT-RAILWAYS

पानीपत में हत्याओं का सिलसिला बदस्तूर जारी, फिर मिला मजदुर का शव।

पानीपत (परवीन भारद्वाज)। ऐतिहासिक और औद्योगिक नगरी में हत्याओं का सिलसिला बदस्तूर जारी। जिले में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!