Home / Punjab / दो हजार साल पुरानी गेंहूं किस्म सोना-मोती पंजाब में बढा रही है रकबा

दो हजार साल पुरानी गेंहूं किस्म सोना-मोती पंजाब में बढा रही है रकबा

चंडीगढ,8दिसम्बर। पंजाब में दो हजार साल पुरानी गेंहूं की किस्म सोना-मोती अपना बुआई का रकबा बढा रही है। वैज्ञानिकों की राय में यह किस्म बेसहारा लोगों के लिए स्थापित आश्रय गृह में अब तक सुरक्षित रही है और अभी 800 एकड में इसकी बुआई की जा रही है।

Advertisements

आश्रय गृह अमृतसर के निकट स्थित है। आश्रय गृह में इस गेंहूं का प्रसाद वितरित किया जाता है। जलवायु के प्रभाव को बर्दाश्त करने में सक्षम गेंहूं की इस किस्म की खेती जलालाबाद में करीब 800 एकड में की जा रही है। आश्रय गृह अमृतसर के निकट पिगलवाडा में स्थित है। कृषि वैज्ञानिकों ने वहां प्रसाद के रूप में बांटे जाने वाले इस किस्म के गेंहू की पहचान कर ली। ऐसा अनुमान है कि गेंहू की इस किस्म की उत्पत्ति मोहनजोदडो के निकट हुई। परम्परा के रूप में पिंगलवाडा में इसकी खेती की जा रही है।

चंडीगढ में अपना मेयर बनाने की योजना पर काम कर रही है कांग्रेस

हैदराबाद एनकाउंटर पर बोलीं भाग्यश्री

कृषि वैज्ञानिकों ने गेंहूं की इस पुरातन देशी किस्म पर परीक्षण कर यह निष्कर्ष निकाला कि बगैर कीटनाशक और रासायनिक खाद के इसकी पैदावार की जा सकती है। इस गेंहू की पैदावार प्रति एकड 12 से 15 क्विंटल होती है जबकि अन्य किस्म का गेंहूं प्रति एकड 15 से 20 क्विंटल होता है। इस किस्म में ग्लूटेन और ग्लाइसीमिक तत्व कम होने के कारण डायबिटीज पीडितों में इसकी मांग बहुत है।

Advertisements
whatsapp-hindxpress
Advertisements

Check Also

cm punjab lockdon

CM अमरिंदर सिंह बोले -अब बहुत हो चुका,विवाह और अंतिम संस्कार की रस्मों को छोड़ सभी कार्यक्रमों पर रोक

चंडीगढ़, 20 अगस्त: राज्य में बड़े स्तर पर बढ़ रहे कोविड के मामलों से निपटने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!