अपराधचण्डीगढ़राष्ट्रीय

ऐप्प के जरिए ठगी : चंडीगढ़ पुलिस ने चीनी का गैंग पकड़ा, 21 गिरफ्तार

चंडीगढ़ पुलिस ने इंस्टेंट लोन ऐप्प के जरिए ठगी करने के मामले में एक चीनी व्यक्ति समेत गैंग के 20 अन्य सदस्यों को पकड़ा है। चंडीगढ़ पुलिस के साइबर सैल पुलिस थाना ने यह गैंग पकड़़ा है। चीनी व्यक्ति वीज़ा अवधि पूरी होने के बावजूद भारत में टिका हुआ था। वही इस गैंग का सरगना बताया गया है। पुलिस के मुताबिक वह गैंग के साथ मिल लोन का लालच देकर ठगी करता था।

 

उसके गैंग में 60 के लगभग सदस्य थे। चंडीगढ़ पुलिस ने 5 राज्यों में इंटर स्टेट ऑपरेशन चला चाइनीज़ के अलावा 20 गैंग सदस्यों को काबू किया है। आरोपियों से पुलिस ने 17.31 लाख रुपए समेत 9 लैपटॉप, 41 मोबाइल फोन, 1 डेस्कटॉप कंप्यूटर और वॉन चेंग का एक्सपायरी पासपोर्ट बरामद किया है।

परवेज़ आलम भारत में गैंग को ऑपरेट करता था

साइबर थाना पुलिस ने मामले में एक टीम बनाई और दिल्ली, नेशनल कैपिटल रीज़न एनसीआर राजस्थान, बिहार और झारखंड में रेड की। यहां से 21 लोगों को पकड़ा गया है। इनमें से 13 सदस्य कॉलर थे जो दिल्ली और एनसीआर से पकड़े गए हैं। वहीं दिल्ली, एनसीआर समेत बिहार तथा झारखंड से 5 मैनेजर्स/टीम लीडर्स, दिल्ली और एनसीआर से वान चेंग और अंशुल कुमार को काबू किया गया है। यह पैसे को मैनेज करते थे। पुलिस ने परवेज़ आलम उर्फ जीतू भडाना उर्फ सोनू को भडाना को रांची से पकड़ा है। वह गिरोह का भारत में सरगना बताया गया है। वह ऑनलाइन लोन ऐप्प के डोमेंस को मैनेज करता था। इनमें Hugo Loan, Cashfree, Fly Cash, Cash Coin, AA Loan शामिल थे।

पुलिस ने गैंग से धोखाधड़ी कर कमाए गए 17.31 लाख रुपए बरामद किए हैं। विभिन्न ऑनलाइन ऐप्प के जरिए यह रकम ठगी गई थी। यह रकम वान चेंग और अंशुल कुमार से बरामद हुई है। वान चेंग का वीजा वर्ष 2020 में एक्सपायर हो चुका था। वह भारत में गैरकानूनी ढंग से रह रहा था।

इस प्रकार फंस रहे हैं लोग

पुलिस ने कहा कि आजकल कई लोन ऐप्प गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं। अल्पावधि के आसानी से उपलब्ध होने वाले छोटी रकम के लोन ऐप्प उपलब्ध हैं। इन ऐप्प को व्यक्ति इंस्टाॅलेशन के दौरान कांटेक्ट्स और गैलरी और अन्य ऐप्प देखने की परमिशन देता है। इसके बाद हाई चार्ज पर उसे छोटी लोन रकम UPI पेमेंट से क्रेडिट होती है। जिसके बाद लोन रकम भरने के बावजूद लोगों को धमकी देकर रकम देने को कहा जाता है और गैलरी से फोटोज़ हासिल कर उनकी मोर्फ्ड न्यूड फोटो कांटेक्ट्स को शेयर करने के नाम पर ब्लैकमेल किया जाता है। यह गैंग भी इसी तरह काम करता था।

चाइनीज़ सर्वर से जुड़ी हैं Apps

पुलिस को पता चला है कि इस प्रकार की गैरकानूनी लोन ऐप्प चाइना में बनती हैं और चाइना के सर्वर से यह ऑपरेट होती हैं। इसके बाद भारत में नौकरी की चाह रखने वाले बेरोजगारों को एक तय सैलरी पर कॉल सेंटर के लिए रखते हैं। इसके बाद इन्हें बताया जाता है कि किस प्रकार लोगों को ऑनलाइन लोन ऐप्प के जरिए ब्लैकमेल करना है। इसके बाद लोन लेने वालों को बार-बार कॉल कर रकम भरने के लिए धमकाया जाता है। कई मासूम लोग ऐसी ठगी के शिकार हो जाते हैं। पुलिस ने कहा कि कुछ राज्यों में तो पीड़ितों ने ब्लैकमेलिंग से तंग आकर सुसाइड तक कर लिया है।

वीडियो यहाँ देखिए

 

 

 

इन केसों में कार्रवाई करते हुए पकड़ा गैंग

3 सितंबर, 2022 को फिरौती, धोखाधड़ी, जालसाज़ी, महिला की आबरु भंगित करने और आपराधिक साजिश रचने की धाराओं में एक केस दर्ज किया था। अरविंद कुमार मामले में शिकायतकर्ता थे। उनके मोबाइल पर लोन के लिए एक लिंक आया था। Hugo Loan नामक ऐप्प पर क्लिक कर उसे इंस्टाॅल कर लिया। इसने उनके कांटेक्ट्स और गैलरी का एक्सेस ले लिया। इस ऐप्प में उन्होंने अपनी डिटेल्स भी भर दी। हालांकि उनकी योग्यता सिर्फ 3500 रुपए तक के लोन की प्रदर्शित हुई। उन्होंने लोन नहीं लिया और ऐप्प को अनइंस्टाॅल कर दिया।

इसके बाद उन्हें Whatsऐप्प पर वर्चुअल नंबरों से धमकी भरे कॉल और SMS आए। उसने कहा कि उसने कोई लोन नहीं लिया इसके बावजूद उसके परिवार वालों के मोर्फ्ड न्यूड फोटो शेयर किए गए। उन्हें पैसे देने के लिए ब्लैकमेल किया गया। एक अन्य मोबाइल नंबर से उन्हें कॉल आया और कहा गया कि पैसे न दिए तो फोटो उनके कांटेक्ट्स को सर्कुलेट कर देंगे। ऐसे में शिकायतकर्ता ने 2045 रुपए 24 अगस्त और 3500 रुपए 30 अगस्त को भेज दिए। हालांकि इसके बावजूद उन्हें ब्लैकमेल कर पैसे की डिमांड की जा रही थी।

लोन चुकाने के बाद भी धमकाते रहे

दूसरा मामला साइबर क्राइम पुलिस थाने ने 30 अगस्त को दर्ज किया। इसमें भी फिरौती, धोखाधड़ी और आपराधिक साजिश की धाराएं थी। शिकायतकर्ता विनीत कुमार ने कहा कि उन्होंने अपने Facebook पर एक विज्ञापन देखा था जिसमें AA लोन ऐप्प का जिक्र था। इसे उन्होंने इंस्टाॅल कर लिया। उन्हें सिर्फ 2700 रुपए का लोन मिला जो 3 से 5 दिनों का था। UPI पेमेंट के जरिए भारी चार्ज भर 5 हजार रुपए भर उन्होंने लोन चुकाया। 23 अगस्त को उन्हें फिर से एक मोबाइल नंबर से कॉल आई और बताया गया कि उनकी लोन रकम पेंडिंग है। रकम जमा करवाने के बावजूद उन पर इसे भरने का दबाव डाला गया। मना करने पर शिकायतकर्ता और उनके परिवार की मोर्फ्ड न्यूड तस्वीरें उनके Whatsऐप्प कांटेक्ट्स को भेजी जाने लगी।

साइबर फ्रॉड से बचने के लिए क्या करें

  • अज्ञात लोन ऐप्प को इन्स्टॉल कर वहां लोन अप्लाई न करें। यह मोबाइल से संवेदनशील जानकारी हासिल कर लेते हैं।
  • इंस्टेंट लोन ऐप्प के विज्ञापनों पर विश्वास न करें।
  • अंजान ऑनलाइन ऐप्प और वेबसाइट पर विश्वास न करें।
  • अज्ञात सोर्स से आने वाले लिंक्स पर क्लिक न करें।
  • अज्ञात सोर्स से कोई भी अनऑथोराइज्ड ऐप्प इंस्टॉल न करें।
  • कोई भी ऐसी ऐप्प  इंस्टॉल न करें जो कांटैक्ट्स, गैलरी और एंड्रॉयड सॉफ्टवेयर की जानकारी मांगती हो।

Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button