Home Latest News कॉरिडोर बनने के साथ ही डेरा बाबानानक नगर में और आसपास जमीन...

कॉरिडोर बनने के साथ ही डेरा बाबानानक नगर में और आसपास जमीन के दाम तेजी से बढेंगे

7
0
FILE PHOTO

चंडीगढ,25नवम्बर। पंजाब के गुरूदासपुर जिले का नगर डेरा बाबानानक अंतर्राष्ट्रीय सीमा से मात्र सौ मीटर की दूरी पर है। करतारपुर कॉरिडोर बनने के बाद देश के श्रद्धालुओं को इसी नगर के रास्ते करतारपुर जाना होगा। ऐसे में न केवल डेरा बाबानानक बल्कि समूचे गुरदासपुर जिले में आर्थिक गतिविधियां तेज हो जायेंगी। डेरा बाबानानक और उसके आसपास जमीन के दाम तेजी से बढेंगे।

भारत और पाकिस्तान सरकार ने हाल में डेरा बाबानानक से करतारपुर तक साढे तीन किलोमीटर के कॉरिडोर के निर्माण का फैसला किया है। भारत के लाखों श्रद्धालुओं के लिए करतारपुर जाने का रास्ता डेरा बाबानानक ही होगा। इस कारण यह नगर एक धार्मिक पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित हो जाएगा। नगर डेरा बाबानानक और उसके आसपास की जमीन के दाम कई गुना बढ जायेंगे। दिल्ली स्थित सम्पत्ति कारोबारी डेरा बाबानानक की जमीन पर नजर लगाए है। सबसे ज्यादा लाभ होटल और रेस्टोरेंट उद्योग को होगा। एक ही झटके में डेरा बाबानानक को अंतर्राष्ट्रीय ख्याति मिल गई है।

कृषि भूमि के दाम रातोंरात बढने की खबर है। कृषि भूमि के दाम 15 से 20 लाख रूपए प्रति एकड थे जो कि अब बढाकर 30 से 35 लाख रूपए प्रति एकड मांगे जा रहे है। अमृतसर,गुरदासपुर और बटाला के होटल संचालकों ने डेरा बाबानानक में अपने दफ्तर खोलने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। अभी तक नगर में कोई होटल नहीं था। अभी गुरदासपुर में 15,बटाला में 20 और अमृतसर में 150 होटल है। हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के तीर्थयात्री पठानकोट-दीनानगर-गुरदासपुर-कलानौर होते हुए डेरा बाबानानक पहुंचेंगे। इस मार्ग पर गुरदासपुर अंतिम बडा शहर होने के कारण श्रद्धालु यहां रूकेंगे। दिल्ली और देश के अन्य भागों से आने वाले श्रद्धालु जालंधर-टांडा-दसूहा-मुकेरियां मार्ग से डेरा बाबानानक आयेंगे। दूसरा रास्ता जालंधर-बाबा बकाला और बटाला का होगा।