Home HARYANA बॉक्सिंग का अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी बेच रहा है कुल्फी (Video)

बॉक्सिंग का अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी बेच रहा है कुल्फी (Video)

9
0

भिवानी, 25 अक्तूबर(अमन शर्मा): बॉक्सिंग के रिंग में बड़े बड़ों के छक्के छुडवाने वाला यह खिलाड़ी आज कुल्फी बेचने को मजबूर है। बॉक्सर दिनेश जोकि कई अंतरष्ट्रीय मैच जीतकर देश और प्रदेश का नाम रोशन कर चूका है इन दिनों कुल्फी बेच बेच कर अपने परिवार का पालन पोषण कर रहा है।

बता दें बॉक्सिंग के दौरान दिनेश को चोट लग गई थी और बेटे का इलाज करवाने के लिए उसके पिता ने पैसे उधार लिए थे। पारिवारिक स्थिति कमजोर होने की वजह से वो उस उधर को नहीं चूका पाए। वहीं दूसरी ओर चोट लगने के कारण दिनेश भी अब नहीं खेल पा रहा है। मजबूरी इतनी बढ़ गई कि अब दिनेश प्रतिदिन रेलवे फाटक के पास रेहड़ी लगाकर कुल्फी बेच रहा है, जबकि दिनेश कई अंर्तराष्ट्रीय मैच जीतकर देश व प्रदेश का नाम रोशन कर चूका है। इसके बावजूद एक खिलाडी की ऐसी दयनीय हालत देख यह विचार बार बार जहन में आता है कि सरकार द्वारा खिलाडियों के लिए किए गए सारे दावे फेल साबित हो रहे हैं।

दिनेश का कहना है कि उसने खेलने में कोई कोर कसर नही छोड़ी। खूब नाम कमाया ओर देश को 17 गोल्ड मेडल, 1 सिल्वर व 5 ब्रॉज मेडल दिए। प्रशासन के प्रति अपनी नारजगी जाहिर करते हुए दिनेश ने कहा कि ना तो पिछली सरकार ने उसके लिए कुछ किया और ना ही इस सरकार ने कुछ किया। जिसकी वजह से आज वह कुल्फी बेचने पर मजबूर है।

दिनेश के भाई का भी यही कहना है कि दिनेश ने खेल में सब कुछ किया लेकिन सरकार की उदासीनता के कारण उसे मुकाम हासिल नही हुआ। उन्होंने कहा कि सरकार उनकी मदद करे तथा उन्हें नौकरी या फिर आर्थिक मदद मुहैया करवाएं ताकि उनका उधार चुकता हो सके।

वहीं दिनेश के कोच विष्णु भगवान का कहना है कि उनका खिलाड़ी काफी तेज तर्रार था। उसने जुनियर वर्ग में काफी मेडल जीते है लेकिन चोट के कारण व खेल से हार गया तथा उसे अब कुल्फी बेचनी पड़ रही है। उन्होंने बताया कि अगर उसकी मदद की जाएं तो वह कर्ज के बोझ से मुक्त हो सकता है। उन्होंने भी सरकार से मांग की है कि अगर सरकार दिनेश की मदद करे तो वह कर्ज से भी छूट जाएंगा तथा उसका भविष्य में सवर जाऐगा।

एक खिलाड़ी जिसने कभी अपनी हिम्मत का लोहा मनवाते हुए देश प्रदेश का नाम रोशन किया आज वही खिलाडी दर दर भटक कर कुल्फी बेचने को मजबूर है एक खिलाडी की ऐसी हालत देख यह सवाल बार बार मन में आता है कि क्या एक खिलाडी का भविष्य ऐसा है।