Home HARYANA सतलोक आश्रम : ‘संत’ रामपाल दोनों मामलों में दोषी करार

सतलोक आश्रम : ‘संत’ रामपाल दोनों मामलों में दोषी करार

19
0

हिसार, 11 अक्टूबर(विनोद सैनी): हिसार के सतलोक आश्रम प्रकरण मामले में मुकदमा नंबर 429, 430 मामलों में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश डी.आर. चालिया ने केंद्रीय कारागृह 1 में चली अदालत की कार्यवाही में जज ने महत्पूर्ण फैसला सुनाया है । दोनों ही मामलों में अदालत ने रामपाल सहित अन्यों को दोषी करार दिया है और इसकी सजा 16 व 17 अक्तूबर को सुनाई जाएगी। बात दे पुलिस ने 19 नवंबर 2014 को मुकदमा दर्ज किया था। अदालत ने धारा 302, धारा 120 सहित अन्य धाराओं सहित उन्हें दोषी करार दिया है। मुकदमा नंबर 429 में 15 दोषी हैं जबकि मुकदमा नंबर 430 में 14 आरोपी हैं। इस मामले में आंसू गैस से दम घुटने के कारण कुछ लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले को लेकर आज रामपाल को कड़ी सुरक्षा के बीच केद्रीय कारागृह -2 से हिसार के सैंट्रल जेल वन में कडी सुरक्षा के बीच पेश किया गया। और इसके बाद अदालत ने अपना फैसला सुनाया है। बता दें रामपाल को दोषी करार दिए जाने के बाद किसी भी तरह का कोई तनाव पूर्ण माहौल नजर नही आया।

आपको बात दें सुरक्षा के मद्दे नजर रामपाल के फैसले को लेकर हिसार जिले की सभी बाऊडरी सील की गई थी। चप्पे चप्पे पर पुलिस ने पैनी नजर रखी हुई थी। वहीं रामपाल के फैसले को लेकर हिसार को पुलिस छावनी में तबदील किया गया। प्रशासन की और से 7 सीनियर आईपीएस और 24 डयूटी मजिस्ट्रेट किए नियुक्त किए। 19 वर्ष 2014 में रामपाल को गिरफ्तार करते समय बरवाला आश्रम में कुछ महिलाओं तथा एक बच्चे की मौत हो गई थी। फैसले को लेकर जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के इतजाम किए थे।

वहीं रामपाल के अधिवक्ता एपी सिंह ने आरोप लगाया कि केंद्रीय कारागृह में सुनवाई के दौरान उन्हें रोक लिया गया वे जो सरासर गलत है उनकी आते समय दस बार चैकिंग की गई। रामपाल के अधिवक्ता एपी सिंह ने कहा कि मुझे केंद्रीय करार गृह में चली अदालत की कार्यवाही के दौरान रोका गया है। रामपाल के अधिवक्ता गुस्से नजर आए। उन्होंने कहा कि उन्हें कोर्ट में नही जाने दिया मैने आइडी दिखाई है परंतु पुलिस उन्हें रोक रही है। उन्होंने कहा रामपाल की वीडियों कान्फे्रस के माध्यम से सुनवाई ना जाए इसलिए उन्हें जज के सामने पक्ष के सामने पेश किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा कोर्ट के नियमों की अवेहना की जा रही है।

रामपाल के अधिवक्ता एपी सिंह ने कहा कि उन्हें साजिश के तहत अदंर नही आने दिया इस मामले में कोर्ट को ट्रासफार का प्रार्थना का पत्र लगाया है। उन्होंने कहा कि आज रामपाल के समर्थन नही है। उन्होंने कहा कि उनकी गाडी को दस बार रोक लिया गया है। संत रामपाल दास ने समाज को जोडने के काम किया समाज में सामाजिक विकास को बढाया है।