Home HARYANA रोजगार दो या कुर्सी छोड़ो , जंग को तैयार प्रदेश के अधिवक्ता

रोजगार दो या कुर्सी छोड़ो , जंग को तैयार प्रदेश के अधिवक्ता

2
0

पानीपत (परवीन भरद्वाज)। देशभर में शिक्षित युवाओं को रोजगार देने की मांग को लेकर बड़ा आंदेालन किया जाएगा । इसके साथ ही वकीलों के हितों की आवाज को मुखर रूप से उठाया जाएगा,इसके लिए बेशक सरकार से टकराना पड़े, वे पीछे नहीं हटेंगे। यह कहना हे हरियाणा एवं पंजाब बार कांऊसिल के पूर्व चेयरमैन रणधीर सिंह बधरान का ,उन्होंने कहा कि नए वकीलों को स्टाइफंड ,अधिवक्ता वैल्फेयर फंड के लिए राज्य सरकार द्वारा अलग से बजट का प्रावधान करने जैसे मुद्दों को लेकर देश भर के वकील अब आर-पार की लड़ाई लडऩे के मूड में आ गए हैं।


हरियाणा एवं पंजाब बार कांऊसिल के पूर्व चेयरमैन बधरान ने कहा कि वकालत एक ऐसा व्यवसाय है जिसके माध्यम से समाज में पीडि़त व्यक्ति को न्याय दिलाया जाता है। कई बार तो अपनी जान हथेली पर रखकर वकील अपराधियों को सलाखों के पीछे भिजवाने का काम करता है और पीडि़त को कानून के अनुसार न्याय दिलाकर उसके जख्मों पर मरहम लगाता है। हैरानी की बात है कि इसके बावजूद भी राज्य सरकारों द्वारा न तो वकीलों की वृद्वावस्था के दौरान कोई पैंशन देने का प्रावधान किया गया है और न ही नए वकीलों को प्रैक्टिस के शुरूआती दिनों में कोई स्टाइफंड दिया जाता है। उन्होंने बताया कि बार काऊंसिल वकीलों की समस्याओं के सामने आने वाली परेशानियों को लेकर गंभीर है और लगातार इस बारे में आवाज उठा रही है।

रणधीर सिंह बधरान ने कहा कि बेरोजगारी व मंहगाई के कारण अधिकतर नए वकीलों की तो दो जून की रोटी के लाले पड़ जाते हैं, यहां तक की नए वकीलों द्वारा हताशा में आत्महत्या करने के मामले भी सामने आने लगे हैं। वकीलों के साथ काम करने वाले लगभग 10 लाख क्लर्क की सिथिती भी आज बहुत खराब ह जिन के लिय्र कोई सोशल सिक्योरिटी न्ही ह ऊन के लिये भी सोशल सिक्योरिटी ऐक्ट बन्ना चाहिए से उन्होंने युवाओं की ओर मुखातिब होते हुए कहा कि 26 नवंबर को वे युवा वकीलों का एक बड़ा सम्मेलन करवाएंगे जिसमें ‘रोजगार दो, युवा बचाओ’ का नारा देकर केंद्र सरकार के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन का बिगुल बजाया जाएगा। उन्होंने राज्य सरकारों को चेताते हुए कहा कि अगर उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया तो वे पूरे देश में युवाओं को साथ लेकर राष्ट्रव्यापी आंदोलन करेंगे।