Home BREAKING परिवहन मंत्री के साथ रोडवेज कर्मचारी नेताओं की वार्ता विफल, चक्काजाम हडताल...

परिवहन मंत्री के साथ रोडवेज कर्मचारी नेताओं की वार्ता विफल, चक्काजाम हडताल जारी रखने का ऐलान

26
0

चंडीगढ,24अक्टूबर। हरियाणा में रोडवेज की चक्काजाम हडताल बुधवार को नौवें दिन में प्रवेश कर गई और शाम को परिवहन मंत्री कृृष्ण लाल पंवार के साथ रोडवेज कर्मचारी नेताओं की वार्ता ढाई घंटे चलने के बाद भी विफल रहने पर हडताल आगे जारी रखने का ऐलान किया गया।

हरियाणा रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी के सदस्य वीरेन्द्र धनखड ने वार्ता के बाद पत्रकारों को बताया कि कमेटी और राज्य सरकार के बीच गतिरोध जारी है। इसलिए हरियाणा रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी के अध्यक्ष मंडल ने चक्कजाम हडताल को आगे जारी रखने का फैसला किया है। धनखड ने कहा कि कमेटी की मुख्य मांग हरियाणा रोडवेज के लिए 720 निजी बसें किराए पर लेने के फैसले को रद््द करने की है और राज्य सरकार इस मांग को मंजूर करने के लिए तैयार नहीं है। इसलिए गतिरोध बना हुआ है। धनखड ने कहा कि परिवहन मंत्री के साथ ढाई घंटे चली वार्ता विफल रही है लेकिन तालमेल कमेटी आगे वार्ता के लिए तैयार है।

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व भी परिवहन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव धनपत सिंह और मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजेश खुल्लर के साथ पिछले रविवार को तालमेल कमेटी के सदस्यों की वार्ता हुई थी लेकिन गतिरोध बना हुआ था। तालमेल कमेटी निजी बसों को किराए पर लेने के फैसले के विरोध में है जबकि सरकार इस फैसले को वापस लेने को तैयार नहीं है।

उधर परिवहन मंत्री कृृष्ण लाल पंवार ने वार्ता के बाद कहा कि कल 3400 से 3500 तक बसें चलाई जायेंगी। यूनियन नेताओं की मांग के अनुसार 500 बसों के लिए किया जा चुका अनुबन्ध वापस लेना संभव नहीं है। आज 1900 बसें चलाई गई हैं और भी चलाई जायेंगी। आम लोगों को परिवहन के मामले में परेशान नहीं होने दिया जाएगा। राज्य सरकार ने अन्य राज्यों से बसें नहीं मांगी है बल्कि अन्य राज्यों के साथ समझौते में तय किलोमीटर बस संचालन पूरा करने को कहा गया है। बस संचालन के लिए चालक बाहर से लिए गए है और होमगार्ड को भी लगाया गया है। परिवहन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव धनपत सिह ने कहा कि करीब 160 चालक आ गए है। भामस और इंटक के धडों से भी मदद मिल रही है। रोडवेज की 1935 बसें चलाई गईं और प्राइवेट सोसाइटी की 1059 बसें चलाई गई है। बातचीत का माहौल बनाए रखने के लिए एसमा ओर अन्य कानूनों के तहत कार्रवाई फिलहाल रोकी गई है। लेकिन 194 अनुबन्ध के चालक,52 अन्य चालक और 2 परिचालक बर्खास्त किए गए है। कुल 48 मुकदमे दर्ज किए गए और इनमें से 38 मुकदमे एसमा के तहत दर्ज किए गए। कुल 275 कर्मचारी गिरफ््तार किए गए जिनमें से 245 को जमानत मिली है। कुल 1222 कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई।