Home CHANDIGARH प्रधानमंत्री ने देश के साथ गद्दारी की – प्रशान्त भूषण

प्रधानमंत्री ने देश के साथ गद्दारी की – प्रशान्त भूषण

7
0

चंडीगढ,27अक्टूबर। स्वराज अभियान के राष्ट्रिय संयोजक और वरिष्ठ वकील प्रशान्त भूषण ने शनिवार को यहां कहा कि राफल विमान खरीद घोटाला करके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने केवल अपराध ही नहीं देश के साथ गद्दारी की है। उन्होंने कहा कि इस मामले में जांच के लिए शिकायत सौपे जाने के नतीजे में ही सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को पद से छुट्टी पर भेजा गया है। उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का बयान सही है।

उन्होंने कहा कि राफल विमान खरीद घोटाला मामले में प्रधानमंत्री ने पद का दुरूपयोग किया है। विमान खरीद सौदे में रिलायंस को कुल कीमत का 35 फीसदी हिस्सा दिलाया गया है। यह कमीशन 31 हजार करोड रूपए बनता है। यह एक तरह से विमान की कीमत बढाकर घूस दिलाने की तरह है। कानून में धूस लेना व दिलाना दोनों अपराध है। विमान की कीमत ढाई गुना बढाकर रिलायंस को 35 फीसदी कमीशन दिलाने का रास्ता साफ किया गया। यह कमीशन आॅफसेट कांट्रैक्ट के रूप में दिया गया। अब विमान बेचने वाली कम्पनी डासाॅल्ट कह रही है कि रिलायंस को आॅफसेट कांट्रैक्ट देने के पीछे कम्पनी के पास जमीन का होना है। यह बडी ही हास्यास्पद बात है कि किसी और कम्पनी या एचएएल के पास जमीन ही नहीं है।

प्रशान्त भूषण ने यहाँ पत्रकारों से बातचीत में कहा कि राफल विमान घोटाले की जांच के लिए पिछले 4 अक्अूबर को उन्होंने यशवन्त सिन्हा और अरूण शौरी के साथ सीबीआई निदेशक को शिकायत दी थी। इसके बाद से ही सरकार घबराई हुई थी। सीबीआई निदेशक के हमसे मिलने पर भी आपत्ति दर्ज की जा रही थी। उन्होंने कहा कि शिकायत के साथ 46 दस्तावेज सौंपे गए है। सरकार को डर था कि कहीं इस शिकायत पर प्रारम्भिक जांच न शुरू कर दी जाए। उन्होंने कहा कि कानून के मुताबिक किसी भी शिकायत के मिलने पर एजेंसी के जांच करना भी अनिवार्य होता है।

उन्होंने कहा कि सीबीआई निदेशक के पद से आलोक वर्मा को हटाने के बाद संयुक्त निदेशक एम नागेश्वर राव को कार्यवाहक निदेशक बनाया गया है। राव के खिलाफ पहले ही भ्रष्टाचार के कई मामले है। इसी तरह राकेश अस्थाना को स्पेशल निदेशक के रूप में सीबीआई पर थोपा गया। अस्थाना के ख्लिाफ पहले ही छह मामले चल रहे है। पहले तो अस्थाना को कार्यवाहक निदेशक बना दिया गया था। विरोध करने पर स्पेशल निदेशक के रूप में उन्हें थोप दिया गया।

राफल विमान खरीद में घोटाला किस तरह से किया गया है इस बारे में खुलासा करते हुए प्रशान्त भूषण ने कहा कि रक्षा खरीद प्रक्रिया के तहत वर्ष 2015 तक वार्ता पूरी कर ली गई थी। लेकिन विमान सौदे को बदल दिया गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और फ्रांस के तत्कालीन राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के बीच 10 अप्रेल 2015 की वार्ता में पूरा सौदा बदला गया। सिर्फ 36 विमान का सौदा किया गया। इसके तहत तकनीकी हस्तांतरण और मेक इन इंडिया कार्यक्रम को छोड दिया गया। मूल सौदा 126 विमानों का था और इसमें से 108 विमान भारत में बनाकर तकनीकी हस्तांतरण किया जाना था। सौदा बदलने के लिए प्रक्रिया से जुडी एजेंसियों को विश्वास में नहीं लिया गया। इसी दौरान 13 अप्रेल 2013 को फ्रांस के मीडिया में खबर आई थी कि मोदी रिलायंस को कांट्रैक्ट दिलाना चाहते है और इसलिए सौदा बदला गया है। उस समय के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ने कहा था कि पूरा सौदा नब्बे हजार करोड का हो जाता इसलिए सौदा बदला गया। विमान कम्पनी डासाॅल्ट के अफसरों ने भी मुद्दा उठाया था कि जब अनुभव ही नहीं है तो रिलायंस को कांट्रैक्ट क्यों दिया जा रहा है। सितम्बर 2016 में सौदे को अंतिम रूप दिया गया और बताया गया कि एक विमान 670 करोड रूपए का है। रिलायंस ने अपने बयान में कहा कि एक विमान 1660 करोड रूपए का है और पूरा सौदा 60,000 करोड रूपए का है। विमान की कीमत ढाई गुना बढाकर रिलायंस को 35 फीसदी कमीशन के रूप में 21 हजार करोड रूपए दिलाना तय किया गया।