Home HARYANA आउटसोर्स पर लगे कर्मचारी हटाए, विरोध में उतरे नए भर्ती चालक

आउटसोर्स पर लगे कर्मचारी हटाए, विरोध में उतरे नए भर्ती चालक

5
0
झज्जर, 3 नवंबर(सुमित कुमार): प्रदेश में 16 अक्तूबर से जारी रोड़वेज कर्मियों की हड़ताल हाई कोर्ट के आदेश के बाद आज खत्म हो गई, लेकिन सरकार की परेशानी खत्म होने का नाम नहीं ले रही। बात दें रोडवेज कर्मियों की हड़ताल के समाप्त होते उन चालकों व परिचालकों ने सरकार के खिलाफ विरोध शुरू कर दिया है जिन्हें हड़ताल के दौरान सरकार ने आऊटसोर्सिंग पॉलिसी के तहत भर्ती किया था
दरअसल हड़ताल के दौरान आम जन को राहत देने के लिए सरकार ने प्रदेश भर में कच्चे कर्मचारी भर्ती किए थे। वहीं झज्जर जिले में से भी करीब एक सौ कर्मचारी भर्ती किए गए थे। लेकिन अब जब कोर्ट के आदेशों के बाद रोडवेज कर्मी हड़ताल बंद कर काम पर वापिस लौट आए हैं तो ऐसे में सरकार ने उन सभी कर्मचारियों कों नौकरी से हटाने के आदेश जारी कर दिए जिन्हें हड़ताल के वक्त ठेके पर लगाया गया था। सरकारी आदेश आते ही कच्चे कर्मचारी आवेश में आ गए और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
प्रदर्शन कर रहे इन चालकों व परिचालकों का कहना है कि वो लोग सरकार के बुरे वक्त में काम आए थे और अब सरकार ने उन्हें अधर में छोड़ दिया। उनका यह भी कहना है कि वे कहीं न कहीं अपने रोजगार पर लगे हुए थे। मगर सरकारी कर्मचारी बनने के लालच में अपना पुराना काम छोडक़र आए थे। लेकिन अब वो कहीं के नहीं रहे। न उनका पुराना रोजगाार बचा और अब सरकार ने भी लात मारकर किनारा कर लिया।
झज्जर से हटाए गए कर्मचारियों में से 50  के करीब कर्मचारियों ने सरकार के इस आदेश के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर की और सरकार के खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी दी।