Home BREAKING इनेलो सुप्रीमो का पत्र पढ़ते ही आया भूचाल – जानिए ऐसा क्या...

इनेलो सुप्रीमो का पत्र पढ़ते ही आया भूचाल – जानिए ऐसा क्या लिखा था पत्र में…

134
0

चंडीगढ,14नवम्बर। हरियाणा के मुख्य विपक्षी दल इंडियन नेशनल लोकदल में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश चौटाला के जेल में रहने के चलते शुरू हुई गुटबाजी में बुधवार को नया मोड आ गया। ओमप्रकाश चौटाला ने एक गुट का नेतृत्व कर रहे अपने बडे पुत्र अजय सिंह चौटाला को पार्टी से निष्कासित कर दिया। अजय सिंह चौटाला पार्टी के प्रदेश प्रधान महासचिव भी थे। उन्हें प्रदेश प्रधान महासचिव पद से हटाते हुए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी निष्कासित कर दिया गया। इससे पहले अजय सिंह के पुत्र दुष्यंत चौटाला को भी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित किया गया था।

पार्टी के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोडा ने अजय सिंह चौटाला को प्रदेश प्रधान महासचिव पद से हटाने और प्राथमिक सदस्यता से निकालने का राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश चौटाला का आदेश पत्रकरवार्ता में पढकर सुनाया। अरोडा ने बताया कि यह पिछले 12 नवम्बर का आदेश है जो कि उन्होंने सुलह की संभावना से अब तक जारी नहीं किया था। इससे पहले अजय सिंह के पुत्र हिसार से लोकसभा सदस्य दुष्यंत चौटाला और छात्र संगठन इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला को पार्टी से निकाला गया था। दुष्यंत और दिग्विजय सिंह के पार्टी से निष्कासन के बाद जेल से पेरोल पर पिछले 5 नवम्बर को बाहर आए अजय सिंह चौटाला ने निष्कासन के खिलाफ अभियान छेड दिया था। उन्होंने जिला मुख्यालयों पर पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठकों को संबोधित करते हुए अभियान के समापन पर 17 नवम्बर को जींद में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक बुलाई थी। अशोक अरोडा ने अजय सिंह चौटाला द्वारा बुलाई गई इस बैठक को भी असंवैधानिक घोषित कर दिया। इसके साथ ही अरोडा ने ऐलान किया कि 17 नवम्बर को चंडीगढ के जाट भवन में पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक आहूत की जाएगी। अरोडा ने कहा कि पार्टी में मुख्यमंत्री पद को लेकर कोई मतभेद नहीं है। राष्ट्रीय अध्यक्ष ओपी चौटाला ही मुख्यमंत्री का फैसला करेंगे।

इस बीच नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने आगामी एक दिसम्बर से एसवाईएल नहर निर्माण और हरियाणा की जनता के अन्य मुद््दों पर अधिकार रथयात्रा श्रुरू करने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि रथयात्रा विधानसभा चुनाव तक जारी रहेगी।