Home HARYANA रोडवेज तालमेल कमेटी की सरकार से वार्ता , कर्मचारी बोले – एक...

रोडवेज तालमेल कमेटी की सरकार से वार्ता , कर्मचारी बोले – एक माह का वेतन भी देने को हैं तैयार

70
0

चंडीगढ,21अक्टूबर। हरियाणा रोडवेज की चक्काजाम हडताल ने रविवार को 6 दिन पूरे कर लिए और रविवार को रोडवेज कर्मचारी यूनियनों के नेताओं और अफसरों के बीच वार्ता पांच दौर में भी विफल रहने के बाद यूनियन नेताओं ने हडताल को आगे भी जारी रखने का ऐलान कर दिया। चक्काजाम से जहां आम आदमी परेशान है वहीं रोडवेज को भी रोजना करीब आठ करोड का नुकसान हो रहा है।

पांच दौर की वार्ता के बाद सर्व कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष इन्द्र सिंह बधाना ने कहा कि यूनियनों की मांग है कि राज्य सरकार महंगे किराए पर निजी बसों को रोडवेज के लिए लेने के बजाय बसे खरीदे ताकि प्रदेश के युवाओं को रोजगार मिले व आम यात्री को बेहतर सुविधा मिले। उन्होंने कहा कि अभी करीब 35 रूपए प्रति किलोमीटर की दर से करीब 500 बसों को किराए पर लेने का टेण्डर पास किया गया है वह पंजाब,राजस्थान और उत्तराखंड में रोडवेज द्वारा ली गई निजी बसों के किराए के मुकाबले ज्यादा है। इन राज्यों में रोडवेज द्वारा ली गई निजी बसों का किराया प्रति किलोमीटर 24 रूपए के आसपास है। उन्होंने कहा कि हरियाणा में रोडवेज के लिए निजी बसें महंगे किराए पर लेकर एक घोटाला किया गया है। उन्होंने कहा कि रोडवेज कर्मचारी यूनियन निजी बसें किराए पर लेने के पक्ष में नहीं है और निजी बसों का टेण्डर रद््द कर रोडवेज के लिए बसें खरीदी जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि रविवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की अपील पर अफसरों के साथ हुई वार्ता में यह मांग स्वीकर नहीं की गई और हडताल जारी रखने का ऐलान किया गया है।

रोडवेज तालमेल कमेटी से वार्ता के बाद क्या बोले अधिकारी – देखें वीडियो

वार्ता में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजेश खुल्लर और परिवहन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव धनपत सिंह तथा परिवहन आयुक्त पंकज अग्रवाल शामिल हुए। वार्ता के दौरान जब कर्मचारी नेताओं को बताया गया कि राज्य सरकार ने रोडवेज को समाप्त करने का फैसला किया है। इस पर कर्मचारी नेताओं ने रोष जताते हुए वार्ता का बायकाट कर दिया था। लेकिन परिवहन आयुक्त पंकज अग्रवाल ने कर्मचारी नेताओं को मना कर दूसरे दौर की वार्ता में शामिल किया। इसके बाद रविवार देर शाम तक वार्ता के पांच दौर पूरे हुए लेकिन कर्मचारी नेता रोडवेज के लिए सात सौ निजी बसें किराए पर लेने के राज्य सरकार के फैसले को रद्द कर खरीदी गई बसें रोडवेज के बेडे में शामिल करने की मांग पर अडे रहे तो अफसर भी इस मांग को मंजूर न करने पर अडे हुए थे। वार्ता विफल रहने के बाद सर्व कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष इन्द्र सिंह बधाना ने कहा कि वार्ता विफल रही है और हडताल आगे भी जारी रहेगी। लेकिन वार्ता के द्वार खुले हुए है। राज्य सरकार जब भी वार्ता के लिए फिर बुलायेगी यूनियन नेता वार्ता में शामिल होंगे। वार्ता के दौरान कर्मचारी नेताओं ने परिवहन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव धनपत सिंह के रूख पर खासा रोष जताया और कहा कि उनके रूख के कारण ही रोडवेज हडताल छह दिन पूरे कर आगे बढ रही है। वार्ता में कर्मचारी नेताओं ने रोडवेज के लिए बसें खरीदने पर जोर दिया और कहा कि इसके लिए सभी रोडवेज कर्मचारी अपना एक-एक माह का वेतन भी देने को तैयार है।