Home HARYANA अस्पताल में मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ – वीडियो हुआ वायरल तो...

अस्पताल में मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ – वीडियो हुआ वायरल तो बोले सीएम….

17
0

रोहतक, 15 नवंबर(सन्नी): बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर जहां एक ओर हरियाणा सरकार दम भरते हुए नहीं थकती, वहीं दूसरी ओर सरकारी अस्पताल में नजारा इससे कुछ विपरीत है। यहां मोटी तनख्वाह लेने वाले डॉक्टर आराम फरमाते हैं और इलाज का जिम्मा अस्पताल के चपड़ासी के हवाले है। हम बात कर रहे हैं रोहतक जैसे शहर के सिविल अस्पताल की जहाँ इमरजेंसी में एक चपड़ासी एक मरीज के टांके लगाता हुआ दिखाई दिया। बता दें , यह कोई नया मामला नही, इससे पहले भी सरकारी अस्पतालों के ऐसे मामले सामने आते रहे हैं।

रोहतक के सामान्य अस्पताल में एक चपड़ासी ओटी में मरीज को स्टीचिज लगाते हुए कैमरे में कैद हो गया। सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की लापरवाही का यह कोई पहला मामला नहीं है। हैरानी की बात तो यह है कि सांपला में इस तरह की घटना के बाद सीएमओ द्वारा सख्त निर्देश जारी किए गए थे। लेकिन, लापरवाह डॉक्टरों ने इन निर्देशो को ठेंगा दिखाते हुए न सुधरने की कसम खाई हुई है।

जानकारी के अनुसार शनिवार रात करीबन 12 बजे एक मरीज जिसके हाथ में कट लगा हुआ था इलाज के लिए रोहतक सामान्य अस्पताल के आपातकाल में पहुंचा। डॉक्टर ने मरीज को देखा जरूर लेकिन इलाज नहीं किया और इलाज की जिम्मेदारी एक चपरासी को सौंप दी। चपरासी ने भी बॉस का आदेश निभाया ओर टांके लगा दिए और पट्टी भी कर दी।

लेकिन हद तो तब हो गई जब इस बारे में प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से पूछा गया और आगे से उन्होंने भी अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी होने की बात कह दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं, लेकिन डॉक्टर बनने में 5 साल का समय लगता है। डॉक्टर पूरे होने के बाद इस तरह की समस्याएं सामने नही आएंगी। उन्होंने ये जरूर कहा कि इस तरह की शिकायतें आती हैं तो संज्ञान लिया जाता है।