Home HARYANA ‘रावण’ देखने पहुंचे सीएम मनोहर , बोले – गलत दिशा में जा...

‘रावण’ देखने पहुंचे सीएम मनोहर , बोले – गलत दिशा में जा रहे हैं रोडवेज कर्मचारी

8
0

पंचकूला, 19 अक्तूबर(उमंग श्योराण): पंचकूला स्तिथ शालीमार ग्राउंड में बीते वीरवार पहुंचे हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर। यहाँ पहुंचने पर क्लब के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया। वहीं कार्यक्रम के दौरान जाने माने पंजाबी गायक अमरेंद्र बॉबी ने शानदार परफार्मेंस देकर लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया। मुख्यमंत्री ने भी इस लाइव शो का लुत्फ उठाया और फिर पंचकूला में बने विश्व के सबसे ऊंचे रावण का देखने पहुंचे।

आपको बता दें पंचकूला सेक्टर-5 में बना रावण 210 फुट ऊँचा है जोकि विश्व का सबसे बड़ा रावण माना जा रहा है। मुख्यमंत्री ने जनता और रावण के पुतले के निर्माता तेजेंदर सिंह चौहान को इसकी बधाई दी।

वहीं इस दौरान पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री ने उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एंडी तिवारी के निधन पर शोक व्यक्त किया और कहा एंडी तिवारी राजनीति के मंझे हुए वरिष्ठ नेता थे। वहीं मुख्यमंत्री ने आने वाले त्योहारों के लिए देश और प्रदेश वासियों को शुभकामनाएं दी


आपको बता दें इस दौरान मुख्यमंत्री ने पत्रकारों द्वारा रोडवेज़ की हड़ताल को लेकर पूछे गए सवाल पर भी जवाब दिया और कहा कि रोडवेज यूनियन को एम्प्लाइज के हितों की बात करनी चाहिए ना कि सरकार की पालिसी की। उन्होंने कहा कि एस्मा लगा होने के बावजूद जो रोडवेज एम्प्लाइज गलत दिशा में जा रहे है उन पर कार्रवाई होगी और इसके साथ ही रोडवेज के कंडक्टर्स और ड्राइवर्स की कमी को पूरा करने के लिए विज्ञापन निकाला गया है।

वहीं इस दौरान पत्रकारों ने मुख्यमंत्री से बसों में पुलिस द्वारा लोगों को टिकट्स ना देकर वसूली करने के मामले पर भी प्रश्न पूछा जिस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसी कोई खबर उन्हें नहीं मिली। लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि लोगों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं होने दी जाएगी। वहीं इस मौके पर मुख्यमंत्री ने संघ के सभी सदस्यों को बधाई दी और बताया कि आरएसएस की स्थापना 1925 में हुई थी।

दिसंबर माह में होने वाले चौथे गीता जयंति उत्सव पर बोलते हुए मुख्यमन्त्री ने कहा कि इस बार की अंतराष्ट्रीय गीता जयंति की तैयारियां शुरू हो गई है सभी में उत्साह है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली बार इस महोत्सव में 120 देशों के लोगों ने शिरकत की थी और इस बार 120 देशों से भी अधिक देशों के लोग आएंगे।