Home BREAKING हरियाणा में बसपा ने इनेलों से गठबन्धन तोड लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी से...

हरियाणा में बसपा ने इनेलों से गठबन्धन तोड लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी से किया

11
0

चंडीगढ,9फरवरी। हरियाणा में जींद विधानसभा उपचुनाव में इंडियन नेशनल लोकदल-बसपा गठबंधन उम्मीदवार की करारी हार के बाद शनिवार को यहां इंडियन नेशनल लोकदल से गठबंधन तोडने का ऐलान करते हुए लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के साथ गठबंधन का ऐलान कर दिया। इसके साथ ही नए गठबंधन ने हरियाणा में आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनावों के लिए सीट बटवारे का ऐलान भी कर दिया।

बसपा ने इनेलो के साथ गठबंधन तोडते हुए साफ तौर पर संदेश दे दिया कि पार्टी हरियाणा में सिर्फ उसी दल के साथ गठबंधन बनाए रख सकती है जो कि वोट खीचने की ताकत रखता हो। इनेलों में हाल में विभाजन के बाद जननायक जनता पार्टी का गठन किया गया था। जननायक जनता पार्टी की चुनौती से जींद उपचुनाव में इनेलों प्रत्याशी मात्र 3454 वोट ही हासिल कर पाया। इस चुनाव परिणाम को बसपा ने इनेलो प्रमुख के परिवार में कलह को कारण मानते हुए ऐलान किया था कि इस कलह ने गठबंधन को कमजोर किया और परिवार के एक होने पर ही फिर से गठबंधन के बारे में विचार किया जाएगा।

हरियाणा के बसपा प्रभारी डॉ मेघराज सिंह और लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के संरक्षक व तकनीकी रूप से अब तक कुरूक्षेत्र से भाजपा सांसद राजकुमार सैनी ने शनिवार को यहां पत्रकारवार्ता में नए गठबंधन का ऐलान किया। दोनों नेताओं ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव के लिए दोनों गठबंधन सहयोगियों के लिए सीटों का बटवारा कर लिया गया है। हरियाणा की कुल दस लोकसभा सीटों में से बसपा आठ सीटों पर चुनाव लडेगी। लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी दो लोकसभा सीटों पर चुनाव लडेगी। इसी तरह प्रदेश की नब्बे विधानसभा सीटों में से बसपा 35 और लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी 55 सीटों पर चुनाव लडेगी। सीटों के बटवारे से जाहिर है कि इस गठबंधन के जरिए बसपा प्रमुख मायावती प्रधानमंत्री पद की अपनी दावेदारी के लिए सीटें चाहती है जबकि राजकुमार सैनी मुख्यमंत्री पद तक पहुंचना चाहते है।

डॉ मेघराज सिंह ने पत्रकारवार्ता में कहा कि देश में आरक्षण व संविधान बचाने के लिए मायावती के निर्देश पर लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के साथ लोकसभा व विधानसभा चुनाव के लिए गठबंधन किया गया। उन्होंने कहा कि चौटाला परिवार में विघटन के कारण इनेलो के साथ गठबंधन तोडा गया है। उन्होंने कहा कि आगामी 17 फरवरी को पानीपत में दोनों सहयोगी दलों का संयुक्त कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि चौटाला परिवार में बटवारे से हुए नुकसान का पता जींद विधानसभा उपचुनाव के नतीजे से चला। बसपा प्रमुख मायावती ने इस पर परिवार को एक होने के लिए कहा था। एक ना होने पर गठबंधन समाप्त किया गया। मायावती द्वारा इनेलो नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला को राखी बांधे जाने के बारे में उन्होंने कहा कि राखी का पवित्र बन्धन आज भी है। इनेलों से कोई शिकायत नहीं थी लेकिन भाजपा को सत्ता से हटाने का उद््देश्य पूरा नहीं हो रहा था। एक सवाल पर उन्होंने कहा कि गठबंधन जाटों को भी टिकट देगा। राजकुमार सैनी ने कहा कि वे चार साल पहले भाजपा से वास्ता तोड चुके है। अब यदि एक भी कार्यकर्ता कहेगा तो वे भाजपा से इस्तीफा देंगे। हरियाणा प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुभाष बराला ने चार साल बाद उनसे नाता तोडने की बात कही है।