Home Latest News भारत के उत्तम स्कूलों में खास स्कूलों की प्रीमीयर स्कूल प्रदर्शनी 

भारत के उत्तम स्कूलों में खास स्कूलों की प्रीमीयर स्कूल प्रदर्शनी 

69
0

लुधियाना,18 नवंबर : वो दिन चले गए जब शिक्षा किताबों तक ही सीमित थी,अब अभिभावक पंजाब में बिना किसी शक के अपने बच्चों के लिए उत्तम स्कूलों की तलाश करते है और अच्छी शिक्षा के लिए अपने बच्चों को अच्छे स्कूलों में दाखिल करवाना चाहते है ताकि बच्चे गुणवत्ता वाली उत्तम शिक्षा ग्रहण कर सकें। लुधियाना में अंतरराष्ट्रीय प्रीमीयम स्कूलों की 14 वीं प्रदर्शनी का आयोजन लुधियाना के फ़िरोज़पुर रोड स्थित होटल पार्क प्लाजा में 18 व 19 नवंबर को किया जा रहा है जहाँ अपने बच्चों को स्कूल में दाखिल करवाने के लिए एक ही छत के नीचे अभिभावक स्कूल का चुनाव कर सकेंगे।

इस वर्ष विशेष सुविधाएँ देने की शुरुआत टोरेंटो ब्रिटेन के किंग्ज़ कालेज में की गई है जो दिल्ली में एन सी आर प्रदान करेगा। 135 साल पुराने ब्रिटिश शिक्षा शिक्षा के लिए विद्यार्थियों की उम्र 5 से 18 वर्ष की है। दाखिले के संबध में बच्चों के अभिभावक स्कूल प्रबंधन से वार्तालाप कर सकते हैं। भारत के किंग्ज़ कालेज के मुख्य अध्यापक ने कहा कि “मुझे प्रसन्नता है की मैं इसका हिस्सा हूँ और बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए हमेशा तात्यर रहूंगा। उन्होंने कहा कि यह स्कूल उत्तम है और हर विद्यार्थी को अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिल सकेगा।

हार्वेस्ट इंटरनेशनल स्कूल लुधियाना की हैड मिस्ट्रेस पूजा चांदपुरिया ने कहा कि हमें  गर्व है कि हम विश्व स्तर की मूलभूत सुविधाएँ तथा अच्छी खेल सुविधाओं सहित उच्च स्तर की पढाई प्रदान करने की ओर अपना ध्यान केंद्रित करते हैं। प्रिया रॉव प्रमुख दाखिला तथा संचार पाथवे स्कूल दिल्ली ने कहा कि हम विद्यार्थियों के लिए अच्छे अवसर ले कर आए हैं ताकि उच्च शिक्षा के लिए बच्चों के अभिभावकों को भटकना न पड़े व उनके बच्चों को विश्व स्तर की शिक्षा मिल सके और वह  देश की तरक्की में अपना योगदान डाल सकें।

निरेदेशक प्रीमियर स्कूल प्रदर्शनी विवेक शुक्ला ने कहा कि आज लुधियाना में 14 वी प्रदर्शनी है  जिसमे पंजाब के इलावा सारे  भारत से स्कूलों ने भाग लिया है  अधिकतर हिस्सा लेने वाले भारत के स्कूलों का संबध अंतर्राष्ट्र्रीय स्तर पर है। रितेश भाटिया मार्केटिंग हैड अंबेनजर इंटरनेशनल स्कूल बंगलौर ने कहा कि शिक्षा प्रदान करने के लिए अलग ढंग का इस्तेमाल किया जाना ही अच्छी शिक्षा प्रदान करना है जिससे बच्चे आसानी  शिक्षा हासिल कर सकें  उनका उद्देश्य है।