Home CHANDIGARH पिछले साल की फरवरी की हिंसा की साजिश भूपेन्द्र हुड्डा ने रची...

पिछले साल की फरवरी की हिंसा की साजिश भूपेन्द्र हुड्डा ने रची – कैप्टेन अभिमन्यु

55
0
चंडीगढ,3नवम्बर। हरियाणा में भाजपा सरकार के पिछले तीन साल के कार्यकाल के दौरान आर्थिक विकास की दर घटने के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ओर उनके सांसद पुत्र दीपेन्द्र हुड््डा के आरोपों पर शुक्रवार को वित्त मंत्री कैप्टेन अभिमन्यु ने पलटवार किया और कहा कि इन तीन सालों में हरियाणा में प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि पिछली कांग्रेस सरकार के दस साल के शासन के दौरान की औसत वृद्धि से अधिक रही।
अभिमन्यु ने कहा कि यह वर्ष 2015-16 में 9फीसदी,वर्ष 2016-17 में 8.7फीसदी रही और 2017-18 में नौ फीसदी बढने वाली है। उन्होंने कहा कि दोनों की ओर से कहा जा रहा है कि उनकी सरकार ने प्रदेश पर कुल 70हजार करोड का कर्ज छोडा था और यह तीन साल में 1 लाख 41 हजार करोड रूपए हो गया। वास्तविकता यह है कि पिछली सरकार ने 70 हजार करोड रूपए के अलावा 36हजार करोड रूपए का कर्ज बिजली कम्पनियो के लिए लिया था। इस तरह उनके समय का 97 हजार करोड रूपए का कर्ज है। इस तरह मौजूदा सरकार के समय राज्य पर कुल कर्ज वर्ष 2017-18 तक 1 लाख 15 हजार करोड ही बनता है। यह निर्धारित वित्तीय मानकों के तहत है।
 उन्होंने कहा कि दोनों पिता-पुत्र बडे और छोटे झूठे साबित हुए है। जहां स्वर्ण जयंती समारोहों पर 1600करोड रूपए का अपव्यय करने का आरोप लगाया जा रहा है। वास्तव में खेल विभाग को दी गइ्र धनराशि समेत इन समारोहों के लिए 100करोड रूपए तय किए गए थे। इनमें से कुल 27करोड रूपए ही समापन समारोह तक खर्च हुए है। इनमें प्रतियोगियों को दिए गए पुरस्कारों का खर्च भी शामिल है।
 कैप्टेन अभिमन्यु ने इसके अलावा कहा कि पिछले साल जाट आरक्षण आंदोलन की आड में हिंसा फैलाई गई। उनहोंने कहा कि उस दौर में प्रदेश में भाईचारा व अमन-शांति के हत्यारे भूपेन्द्र सिंह हुड््डा ही है। सारा षडयंत्र उन्होंने ही रचा था। उन्होंने कहा कि आगामी दस नवम्बर को होने वाली जीएसटी कौंसिल की बैठक में प्लाईवुड पर जीएसटी 28से घटाकर 18 फीसदी करने व कृषि उपकरणों के स्पयेर पार्ट्स पर 18 फीसदी से कम करने की मांग उठाई जायेगी। उन्होंने कहा कि इन तीन साल में ईज आॅफ डूइंग बिजनेस में हरियाणा 14 वें स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंच गया है। यह एक बडी उपलब्धि है।