Home BREAKING केंद्र सरकार द्वारा 550 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से पराली...

केंद्र सरकार द्वारा 550 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से पराली खरीदने पर कृषि मंत्री ने जताया आभार।

51
0

चंडीगढ़। किसानों सहित सभी के लिए अच्छी खबर है कि अब केंद्र सरकार पराली खरीद करेगी। पिछले दिनों हरियाणा के कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने केंद्र सरकार के मंत्रियों को पत्र भेजकर पराली के निपटान में किसानों के लिए राहत की मांग की थी। अब वो पहल रंग लाई है। केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह ने पराली का उपयोग बिजली बनाने में किये जाने उद्देश्य से ये खरीद करने का निर्णय लिया। जिसके बाद हरियाणा के कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने केंद्रीय मंत्री आर के सिंह को फोन करके इस कदम के लिए बधाई दी।

कृषि मंत्री ओ पी धनखड़ ने यहां जानकारी देते हुए बताया कि केंद्र सरकार 550 रुपये प्रति क्विंटल की दर से खरीद करेगी। केंद्र सरकार ने धान का भाव 1550 रुपये घोषित है। इस लिहाज के किसानों को एक तरह से प्रति क्विटल 2100 रुपये मिलेगा।
कृषि मंत्री ओ पी धनखड़ ने कहा कि इससे किसानों को बहुत लाभ होगा। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार किसानों के लिए हर संभव अच्छा कार्य कर रही है। हरियाणा देश में पहला ऐसा राज्य है जिसका किसान जोखिम फ्री है ।
उल्लेखनीय है कि पराली का निपटान किसानों के लिए महंगा पड़ता है। अब किसानों को पराली का भी दाम मिलेगा। इससे किसानों सहित सभी का फायदा होगा।
कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कृषि मंत्री राधामोहन सिंह और ऊर्जा मंत्री आर के सिंह का आभार जताया है।

किसानों को मिलेगा 13750 प्रति एकड़ का फायदा

किसानों की पराली खरीदे जाने से किसानों को प्रति एकड़ 13 हजार से ज्यादा का लाभ होगा। प्रति एकड़ आमतौर पर 25 क्विंटल धान होता है और करीब इतना ही अवशेष। इस लिहाज से 25 क्विंटल पराली प्रति एकड़ होती है। 550 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से यह राशि 13750 रूपये प्रति एकड़ बनती है। जिससे किसानों को लाभ मिलेगा।

75 करोड़ की किसानों को दी सब्सिडी

किसानों को पराली के समाधान के लिए कृषि ने इस बार कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड की पहल पर किसान मेलों का आयोजन किया था। किसानों को कृषि विभाग ने पराली निपटान के उपकरण खरीदने पर 75 करोड़ की सब्सिडी दी। इसके अलावा जिन किसानों ने पराली के अवशेष की जुताई कराई, ऐसे किसानों को भी सब्सिडी के तहत जुताई की राशि में भी सहयोग किया। अब पराली की खरीद किये जाने के निर्णय से किसानों को बहुत लाभ होगा।